17 एकड़ जमीन की है आवश्यकता, डा . एसके भगत, पुरातात्विक अधीक्षक कर रहे थे नेतृत्व

संवाद सहयोगी, हजारीबाग : 9 वीं से लेकर 11वीं शताब्दी के बुद्ध अवशेषों को अपने गर्भ में छिपाए सदर प्रखंड के बहोरनपूर स्थित पुरातात्विक उत्खनन स्थल पर साइट म्यूजियम को लेकर जमीन का निरीक्षण करने दो सदस्यीय दल गुरुवार को हजारीबाग पहुंची। रांची जोन के पुरातात्विक अधीक्षक डा. एसके भगत के नेतृत्व में दो सदस्यीय दल हजारीबाग आयी। दल ने करीब दो घंटे तक स्थानीय मुखिया महेश कुमार तिग्गा के साथ पुरातात्विक स्थल का निरीक्षण किया। खोदाई स्थल की स्थिति का जायजा लिया। जमीन के प्रकार और ब्यौरा समझने के लिए सदर अंचल की ओर से अमीन संजय कुमार और सहायक सीमोन दत्ता साथ आए थे। श्री भगत ने बताया कि प्रस्तावित म्यूजियम के लिए 18 एकड़ जमीन की आवश्यकता होगी। प्रधान महेश तिग्गा ने जानकारी दी कि स्थल के समीप हीं पर्याप्त जमीन है। यह वन विभाग, और गैर मजरुआ आम है। इसके अलावा अन्य कुछ जमीनें रैयती बंदोबस्ती है। श्री भगत ने कहा कि निरीक्षण के बाद साइट म्यूजियम के लिए प्रस्ताव दिल्ली भेजा जाएंगा। कहा कि यहां पर्याप्त जमीनें है, और एक बेहतर सदर विधायक ने सदन में उठाया था मामला

ज्ञात हो कि विधायक सदर मनीष जायसवाल ने सदन में पुरातात्विक अवशेषों को संरक्षित करने को लेकर म्यूजियम सहित पर्यटन स्थल बनाने का मुद्दा उठाया था। वहीं स्थानीय पुरातात्विक स्थल संरक्षण समिति ने ने मुख्यमंत्री से मिलकर ज्ञापन सौंप कर खोदाई में प्राप्त अवशेषों को संरक्षित करने की मांग की थी।

Edited By: Jagran