संसू, चरही : कोल इंडिया में केंद्र सरकार के निर्णय के विरूद्ध में तीन दिवसीय हड़ताल को लेकर संयुक्त मोर्चा के साथ मजदूरों की बैठकें निरंतर जारी है। हजारीबाग एरिया के चरही महाप्रबंधक कार्यालय, तापीन साउथ परियोजना, और आरआरडब्ल्यू मे संयुक्त मोर्चा के तीन दिवसीय हड़ताल को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ पीट मीटिग, गेट मीटिग किया गया। इसके माध्यम से अगुआई करने वाले मजदूर नेताओं ने कहा कि हड़ताल के लिए काउंट डाउन शुरू हो चला है। 2 से 4 जुलाई को कोयला उद्योग में हड़ताल का व्यापक असर देखने को मिलेगा। बीएमएस के क्षेत्रीय सचिव शंकर सिंह ने कहा कि देश आज विदेशी पूंजीपतियों के हाथों देश के इस बहुमूल्य प्राकृतिक खनिज संपदा के निर्मम लूट का रास्ता बिल्कुल साफ होता जा रहा है। जिससे इसका खतरा पैदा हो गया है। कोयला खदानों के जंगलों में रहने वाले आदिवासियों, दलितों, पिछड़ों की प्रतिकूल असर पड़ेगा। भूमि पर सामाजिक और पर्यावरण पर प्रभाव पड़ेगा। इसलिए इस हड़ताल को हर हाल में सफल बनाना है। इस सभा में एटक के राजेन्द्र प्रसाद सिंह, सीटू के बंसत कुमार, बलभद्र दास मदन महतो ने भी संबोधित किया। अध्यक्षता सुरेश तिवारी ने किया। सभा मे पप्पू दुबे, रंजीत कुमार, पंकज सिंह, सुजीत झा, माया मेहता, फिरोजा खातून, पुष्पा मिज, बाला देवी, सुशीला देवी, सुशीला मिश्रा, मनीषा सिंह, अंजू होरो, देवंती देवी, राजकुमारी देवी, फुलेश्वरी देवी, सीमा देवी, अनीता टूडू, अमित कुमार,कृष्णा कुमार, राम अवतार सिंह, श्रीकांत, महेश प्रसाद, भोला सिंह सहित सैकड़ों कामगार उपस्थित हुए।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस