हजारीबाग : पिछले तीन तिथियों से बारिश के कारण स्थगित हो रहा भव्य रामलीला का मंचन रविवार को हजारीबाग स्टेडियम में किया गया। रात आठ बजे से प्रारंभ होकर 11 बजे तक चले इस भव्य रामलीला मंचन की प्रस्तुति ऐसी रही कि बारिश भी लोगों के कदम नहीं रोक सकी। बारिश के बावजूद सपरिवार पहुंचे सैकड़ों लोगों ने पानी में भींग कर मंचन को देखा। इससे पूर्व

अटल सांस्कृतिक मंच के नेतृत्व में आयोजित रामलीला का उदघाटन आयोजन समिति के दीपक नाथ सहाय, सुदेश चंद्रवंशी राजेंद्र प्रसाद, अमरेंद्र विद्यार्थी व अन्य ने दीप जलाकर किया। रामलीला का मंचन हजारीबाग की कई संस्थाओं से जुड़े कलाकारों की सहयोग से किया गया। सदर विधायक रात करीब 11 बजे स्टेडियम पहुंच कर कलाकारों का उत्साह बढ़ाया। मंचन में

रामलीला के माध्यम से प्रभु राम जी के जन्म से रावण वध के उपरांत अयोध्या लौटने तक के ²श्य को विशेष ध्वनि एवं सतरंगी रोशनियों की छटाओं के आकर्षक प्रस्तुति के साथ मनमोहन अंदाज में मंचन किया गया। पूरा स्टेडियम रावण की गर्जना, हनुमान के जयकारे से गूंजता रहा। राम जन्म से लेकर रावण के मरण, सीता का हरण, जटायू युद्व, सीता स्वयंवर, परशुमराम को क्रोध, कुभकर्ण की नींद, सहस्त्रबाहू और अहिरावण से लेकर माता कैकयी, मंथरा, वनवास काल तथा भरत का भाई के प्रति प्यार को भी नाटक के माध्यम से कलाकारों ने शानदार प्रस्तूति दी। लाईट और सांउड के साथ बड़े एलइडी स्क्रीन पर रामलीला की प्रस्तुति की गई। रात 11 बजे जम रामलीता सीता के अग्नि परीक्षा और राम के राज्याभिषेक के बाद समापन हुआ तो पूरा स्टेडियम तालियों की गड़गड़हाट से गूंज रहा था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप