पदमा : पशु तस्करी और बालू के अवैध खनन जैसे विषयों को लेकर विवादों में रहने वाली पदमा पुलिस एक बार फिर विवाद में है। ताजा मामला गांजा उगाने वाले आरोपियों को थाना लाकर छोड़ देने और आरोपियों द्वारा मुखबरी के आरोप में पड़ोसी के साथ मारपीट करने का है। जिसे लेकर ओपी प्रभारी पर पैसा का लेनदेन कर गांजा उगाने वालों को संरक्षण देने का आरोप लग रहा है। पूरे मामले में थाना से कार्रवाई होता नहीं देख आरोपियों द्वारा पिटाई से घायल पीड़ित ने एसपी को ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की है। आवेदन में बताया गया कि 19 अक्टूबर को पुलिस ने दोनय खुर्द निवासी वन राणा, वंशी राणा के घर के बारी में गांजा उगाने की सूचना पर छापेमारी की थी। छापेमारी में गाजा नष्ट करने के बाद दोनो आरोपियों को थाना ले आई। थाने में लेन देन के बाद आरोपियों को मुक्त कर दिया गया। इसके बाद घर पहुंच आरोपियों ने पुलिस के पास मुखबरी करने का आरोप लगाकर अंजू देवी पति बसन्त राणा के साथ मारपीट की और अभद्र व्यवहार किया। जिसकी शिकायत थाने में की लेकिन ओपी प्रभारी ने इस पर संज्ञान लेने की जगह दुत्कार कर भगा दिया।

----------

मामला संज्ञान में आया है, जांच कर रहा हूं, जांच के बाद ही कुछ कह सकता हूं।

ओपी पांडेय, ओपी प्रभारी, पदमा

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप