संसू, बरकटठा : चलकुशा बैंक लूट में शामिल बिहार के अपराधियों को चलकुशा के अलगडीहा में स्थानीय लोगों का संरक्षण था। तीन दिन की रेकी के बाद चौथे दिन बैंक लुटेरों ने लूट की घटना को अंजाम दिया। बिहार से गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ में पूरे नेटवर्क का पर्दाफाश हो गया है। स्थानीय गुर्गों की तलाश में चलकुशा, गोरहर और बरही पुलिस की टीम छापेमारी कर रही है। हांलाकि पूरे प्रकरण की पुलिस ने पुष्टि नहीं की है। लेकिन जानकारी के अनुसार पुलिस पूरे नेटवर्क को साफ करने में लगी है। जानकारी के अनुसार बिहार के अपराधियों का पूर्व में भी आपराधिक रिकार्ड है और स्थानीय सहयोगियों का भी पुराना इतिहास है। पुलिस उस व्यक्ति की तलाश में जुट गई है, जिसने अपराधियों को शरण दिया, रेकी करने में सहायता की और फिर बैंक लूट की घटना को अंजाम दिया। पुलिस पूरे दिन गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ कर उनसे प्राप्त जानकारी के आधार पर छापेमारी अभियान चला रही है। ज्ञात हो कि 27 जून को दिन के करीब ढाई बजे चार की संख्या में अपराधियों ने बैंक के अंदर जाकर तथा दो गेट पर रहकर लूट की घटना को अंजाम दिया था। अपराधी मोटरसाइकिल से आए थे। वहं प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार कुछ लोग बैंक से कुछ दूर पर बोलेरो से रेकी कर रहे थे। लूट की घटना के बाद लुटेरों के भागने के बाद बोलेरो सवार भी निकल भागे।

Posted By: Jagran