केरेडारी : इस बार प्रखंड में मकर सक्रांति पर्व 15 जनवरी को मनाया जा रहा है। इसके बावजूद 14 जनवरी को भी लोगों ने स्नान कर चूड़ा, दही, गुड़ खाया व तिल के रूप में तिलकुट का वितरण दान कर संक्रांति मनाया। केरेडारी के दर्जनों गर्म कुंड स्थल दिन भर गुलजार रहे इसके अलावा भी प्रखंड के कंडाबेर माता स्थान में पूजा अर्चना के लिए सैंकड़ों श्रद्धालुपहुंचे थे।

गर्म कुंडों का महत्व : प्रखंड के सबसे गर्म कुंड पेटो पंचायत के

प्रसिद्ध सतीचुरा मंदिर के समीप स्थित है, जो बो¨रग के नाम से विख्यात है। इस कुंड के बारे में लोगों की मान्यता है कि यहां के गर्म पानी से स्नान करने पर कई चर्म रोगों से छुटकारा मिलता है। जबकि कराली पंचायत के गांव जोको के काली मंदिर के समीप एक गर्म कुंड है। जो गंझुनिया के नाम से विख्यात है। इस कुंड में लोग विशेष कर खाज खुजली से ग्रसित लोग नहाने आते हैं। वहीं प्रखंड के छतीसो माता स्थान के पंचपंडवा स्थित झरने में भी लोग स्नान कर पूजा पाठ किया। इसके अलावा भी कई नदियों व पोखरों में भी लोग स्नान दान पुण्य करने पहुंचे थे। वहीं केरेडारी सीओ मांदेव प्रिया और बीडीओ देवलाल उरांव ने प्रखंडवासियों के लिए शांति व समद्धि की कामना की है।

Posted By: Jagran