जमशेदपुर  : श्रीश्री सार्वजनिक दुर्गा पूजा समिति बागबेड़ा रोड नंबर चार की स्थापना 1962 में हुई। दुर्गा पूजा स्थापना के 60 वर्षों बाद पहली बार पूजा का आयोजन महिलाओं की ओर से किया जा रहा हैं। पूजा का थीम पूरी तरह से ग्रामीण परिवेश पर आधारित हैं। पंडाल में ग्रामीण कारीगरों द्वारा भिन्न-भिन्न कलाकृतियां के माध्यम से महिलाओं के ग्रामीण संस्कृति को दिखाया गया हैं।

पंडाल निर्माण में इन सामग्रियों का हुआ उपयोग

इसके अलावा पुरानी पारंपरिक पूजा में उपयोग में आने वाली वस्तुओं की भी झलक देखने को मिलेगी। पंडाल निर्माण में 1500 गमछा, 500 मटका और 500 ताल पंखे का उपयोग किया गया हैं। पूजा कमेटी की कविता परमार ने बताया कि पूजा पंडाल पूरी तरह से इको फ्रेंडली हैं और इससे वातावरण को कोई नुकसान नहीं होगा।

सामाजिक कुरीतियों को दूर भगाने का संदेश

पंडाल में समाज की कुरीतियों जैसे नशा, भ्रूण हत्या, दहेज प्रथा, बुजुर्गों का अपमान, संयुक्त परिवार जैसे थीम को दर्शाया गया हैं। पूजा पंडाल का दर्शन करने वालों के लिए विशेष पार्किंग की व्यवस्था की गई हैं। पूजा कमेटी की अध्यक्ष मंजू देवी, कार्यकारी अध्यक्ष अंशुल कुमार, रोहन सिंह, महासचिव मुदिता सिंह, अभिजित सिंह, उपाध्यक्ष बबिता सिंह, झरना मिश्रा, सुजाता सिंह, सचिव संध्या सिंह, सीमा सिंह, अंजू दवी, संगीता सिंह, कोषाध्यक्ष प्रतिमा मुंडा हैं।

माता के भजनों व नृत्य नाटिका पर झूमे कालोनीवासी

जासं, जमशेदपुर : मानगो के डिमना रोड स्थित मून सिटी परिसर में गुरुवार को माता की चौकी का आयोजन किया गया। इसमें अमित ग्रोवर टीम के कलाकारों ने भजन व नृत्य नाटिका प्रस्तुत किया। इसमें भजन का शुभारंभ माता की तस्वीर के समक्ष ज्योत जलाकर व पूजा अर्चना कर की गई। भजन संध्या को सफल बनाने में विश्वनाथ प्रसाद सिंह, सुशील जायसवाल, राजीव सिंह समेत अन्य लोगों का योगदान रहा।

Edited By: Jitendra Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट