जासं, हजारीबाग : केरोसिन ब्लास्ट मामले की बारीकी से जानकारी लेने और इस कांड में असमय काल के गाल समय मृतकों के आश्रितों और घायलों की सुध लेने बुधवार को हजारीबाग पहुंचे झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री सह भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी प्रभावित गांव पहुंचे। इस अवसर पर सदर विधायक मनीष जायसवाल भी शामिल थे। मुफ्फसिल थाना क्षेत्रांतर्गत ग्राम पंचायत अमनारी पहुंचे और मृतक एवं घायलों के परिजनों एवं ग्रामीणों से मिलकर घटना की पूरी जानकारी ली एवं इस घटना के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। लोगों से प्राप्त जानकारी को खुद श्री मरांडी ने कलमबद्ध किया और घायल मासूम से मिलकर उसका कुशल क्षेम भी पूछा। स्थानीय डीलर से भी उन्होंने इस घटना को लेकर वार्ता की। तत्पश्चात चुटियारो पंचायत के जख्मी हुए एचएमसीएच में इलाजरत एक मां और उनके दो मासूम बच्चों से मिलने खुद अस्पताल पहुंचे और यहां घायलों से मिल उनके इलाज का जायजा लिया एवं परिजनों से बात की। इससे पहले बाबूलाल मरांडी के हजारीबाग प्रवेश करने पर सदर विधायक मनीष जायसवाल की उपस्थिति में कोर्रा चौक पर जी भाजपा नगर पूर्वी मंडल अध्यक्ष सह वार्ड पार्षद पंकज गुप्ता उर्फ बबन के नेतृत्व में और सदर पूर्वी भी मंडल अध्यक्ष रामचंद्र प्रसाद कुशवाहा के नेतृत्व में रोला चौक पर फूल माला पहनाकर स्थानीय भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने उनका स्वागत किया।

-------------

झारखंड की अब तक की सबसे कमजोर सरकार : मरांडी केरोसिन कांड की अविलंब पूरी हो जांच, प्रभावितों को मिले राहत जासं, हजारीबाग : प्रथम मुख्यमंत्री सह भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने बाद में सदर विधायक मनीष जायसवाल के कार्यालय में पत्रकार वार्ता कर एक ओर जहां केरोसिन कांड की अविलंब पूरी करने की मांग की, वहीं धायलों का समुचित इलाज बेहतर अस्पताल में कराने एवं प्रभावितों को राहत देने की मांग सरकार और प्रशासन से की। सारी घटना की उच्च स्तरीय जांच करा कर दोषियों को दंडित किए जाने की भी मांग की। वहीं राज्य में बढ़े आपराधिक घटनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि झारखंड की वर्तमान सरकार राज्य की अब तक की सबसे कमजोर सरकार है। इस सरकार से अपराध पर अंकुश नहीं लग सकता है। अपराधियों के समक्ष सरकार घुटने टेक चुकी है। ऐसा लगता है कि सरकार का अपराधियों से कनेक्शन है। केरोसिन कांड की चर्चा करते हुए कहा कि क्षेत्र में जाने के बाद यह एहसास हुआ कि लोगों में सरकार और स्थानीय प्रशासन के खिलाफ भारी रोष व्याप्त है। कुल मिलाकर चार लोगों की असमय मौत और दर्जनों लोग इस घटना में घायल हो चुके हैं। पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी ने बताया कि ग्रामीणों से मिलने और मृतकों का हाल अस्पताल में जाकर जानने के उपरांत मुझे यह पता चला कि शासन प्रशासन इस घटना के प्रति पूरी तरह असंवेदनशील है और घायलों के समुचित इलाज में भी किसी प्रकार का कोई सहयोग नहीं किया जा रहा है। श्री मरांडी ने कहा कि इस घटना के घटित हुए करीब 9 दिन से अधिक हो चुके हैं बावजूद इसके अब तक किसी प्रकार की कोई जांच रिपोर्ट नहीं आई है जो दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर ऐसी घटना के साजिशकर्ताओं को कठोर दंड नहीं दिया गया तो एलाईमेंट्स बिछाने और बम लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी और साजिशकर्ता ऐसे ही साजिश रच गरीबों की जिदगी से खिलवाड़ करते रहेंगे। इस घटना का पर्दाफाश सरकार को अविलंब करना चाहिए ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति ना हो। प्रशासन ने एक तरफ संबंधित केरोसीन सप्लाई एजेंसी कार्रवाई तो किया लेकिन इसका दूसरा पक्ष संबंधित पदाधिकारियों का जो इसमें संलिप्त हैं उन्हें भी नामित करना चाहिए था। सदर विधायक मनीष जायसवाल ने कहा कि सरकार और हजारीबाग प्रशासन इस घटना को लेकर गंभीर नहीं दिख रही है और मैंने निर्णय लिया है कि आगामी झारखंड विधानसभा के बजट सत्र की शुरुआत 26 फरवरी से हो रही है। प्रथम दिन कामकाजी नहीं होता है लेकिन पहली मार्च को इस घटना को लेकर सदन के प्रथम कामकाजी दिन ही हम कार्य स्थगन का प्रस्ताव लाएंगे और यह सुनिश्चित कराएंगे की इस घटना के पीड़ितों को ना सिर्फ मुआवजा मिले बल्कि उन्हें न्याय भी मिल सके ।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021