जागरण संवाददाता, हजारीबाग : हजारीबाग के सदर प्रखंड में केरोसिन में हो रहे विस्फोट का सिलसिला प्रशासन की तमाम कोशिश के बाद रुक नहीं रहा है। शनिवार की शाम फिर से चुटियारो पंचायत के सरौनीकला गांव में केरोसिन विस्फोट हुआ। इस घटना में इंद्रदेव राणा की पत्नी 40 वर्षीय शांति देवी, 12 वर्षीय बेटी पायल और 10 वर्षीय पीयूष घायल हो गए थे। घटना की सूचना के बाद शनिवार की रात उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद स्वयं शेख भिखारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचे और घायलों के बेहतर इलाज का निर्देश दिया। जिले में अब तक केरोसिन विस्फोट के सात मामलों में कुल चार लोगों की मौत हो चुकी है जबकि एक दर्जन लोग घायल हो चुके हैं। विस्फोट के शिकार हुए ग्रामीणों को अब तक प्रशासन की ओर से कोई मदद नहीं मिली है। अपने पोते और बहू को गंवाने वाले तुलसी ठाकुर ने बताया कि प्रशासन की ओर कोई मदद उन्हें नही दी गई है। सिर्फ लोग उनसे मिलने पहुंचे और हादसे की जानकारी ली। एक पैर दिव्यांग तुलसी ठाकुर ने बताया कि मेरा बड़ा पोता भी इस हादसे में घायल है लेकिन इलाज का खर्च भी स्वयं उन्हें उठाना पड़ रहा है। पंचायत के मुखिया अनूप कुमार व ग्रामीणों के द्वारा उन्हें मदद सहयोग दिया जा रहा है। वही दूसरी और सातवीं घटना के बाद प्रशासन की नींद टूटी। करीब 1100 घरों में आवंटित किए गए केरोसिन के इस्तेमाल पर रोक लिए माइक से उद्घघोषणा शुरु की गई। इसे लेकर भी ग्रामीणों में नाराजगी थी। मां का शव पड़ा था पोस्टमार्टम हाउस में, इधर बच्चे ने भी तोड़ा दम हजारीबाग के सदर प्रखंड में हुए केरोसिन विस्फोट में मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। पांच दिन पहले विस्फोट में घायल हुए अमनारी गांव निवासी बसंत ठाकुर के 11 वर्षीय बच्चे आयुष की मौत रविवार की रात रांची में इलाज के दौरान हो गई थी। जबकि शनिवार की शाम आयुष की मां 36 वर्षीय सविता देवी की मौत रिम्स में इलाज के दौरान हो गई थी। बसंत ठाकुर को अपने बच्चे की मौत की सूचना तब मिली जब वे पोस्टमार्टम हाउस में अपनी पत्नी का शव मिलने का इंतजार कर रहे थे। इस घटना से बसंत ठाकुर के परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। बसंत ठाकुर का बड़ा पुत्र पवन भी इस घटना में घायल हो गया था, जिसका इलाज रिम्स में चल रहा है।

--------------

बनाई गई छह टीम, 100 लोग घर-घर जमा कर रहे केरोसिन

लगातार हो रही घटना के बाद रविवार की सुबह घरों से केरोसिन जमा करने के लिए उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद के निर्देश पर छह टीम बनाई गई। जिले के सभी प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी समेत 100 लोगों की टीम बनाकर घर-घर इसे जमा करवाया जा रहा है। हालांकि, सवाल यह उठ रहा है कि आखिरी यह कदम प्रशासन ने इतनी देरी से क्यों उठाया। ग्रामीणों ने बताया कि इससे पहले संबंधित क्षेत्र के मुखिया को यह जिम्मेवारी दी गई थी। लेकिन प्रशासन को इसे लेकर ज्यादा सतर्क होना चाहिए था।

----------------

गोदाम से लिए गए सैंपल निकले सामान्य, भेजे गए और सैंपल

वही केरोसिन में मिलावट को लेकर जांच अब भी कोई ठोस नतीजे पर नही पहुंची है। गोदाम से लिए गए सैंपल जांच में सामान्य पाए गए हैं। हालांकि, अभी घटनास्थल से उठाए गए सैंपलों की रिपोर्ट आनी बाकी है। इसके अलावा उपायुक्त के निर्देश पर रविवार को सदर प्रखंड के अलावा दूसरे क्षेत्र के सैंपल भी जांच के लिए भेजे गए हैं।

----------- घरों में जमा केरोसिन के उठाव का काम लगातार किया जा रहा था। शनिवार को हुई घटना के बाद अलग-अलग टीम बनाकर घरों से केरोसिन का उठाव किया जा रहा है। हादसे में मारे गए लोगों के प्रति प्रशासन संवेदनशील है। मुआवजे को लेकर आइओसीएल से बातचीत की जा रही है। कुछ और सैंपल भी जांच के लिए भेजे गए हैं।

आदित्य कुमार आनंद, उपायुक्त हजारीबाग

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021