टाटीझरिया (हजारीबाग) : जंगली हाथियों का झुंड प्रतिदिन मौत के साये के रूप में क्षेत्र के गांवों में पहुंच रहे हैं। न जाने कब और किसे यह साया ढक ले, इसके भय से गांव वाले हमेशा चितित रहते हैं। शुक्रवार की शाम को 24 की संख्या वाला हाथियों का झुंड करम्बा जंगल से निकल हरदिया गांव पहुंचा और वहां लगे गेहूं तथा आलू की खेती को कुछ खाया, कुछ बर्बाद कर दिया। यहां छोटन टुडू, कार्तिक टुडू, सोमर टुडू, नरेश मांझी, सुंदर मांझी, किशुन मांझी, मोहन मरांडी, मोतीलाल टुडू, सूजन मांझी के खेत में लगे गेहूं और मो मतियों का खेत में लगे आलू को खाया गया। वैसे भी यह आदिवासियों का गांव है सो जंगलों के बीच में बसा है। यहां तक वन विभाग और प्रशासनिक पदाधिकारियों को आने में भी समय लग ही जाता है। जल्द ही वन विभाग के लोग टीम के साथ मुश्किलों का सामना करते हुए वहां पहुंचे और शैलेश पांडेय के नेतृत्व में हाथियों को भगाया गया । यहां से हाथियों का समूह सीधे पानिमाको पहुंचें जहां इन्होंने टुला मांझी का घर तोड़ा और घर में रखे चावल को चट कर गए। वहीं सुंदर मांझी का घर और रखे दो ड्राम चावल चट कर गए। शिबू मांझी के खेत मे लगे गेहूं नष्ट कर गए। उसके बाद हाथियों का झुंड प्रखंड सीमा से सटे बरकट्ठा के पहाड़पुर की ओर चले गए। भाजपा के पूर्व प्रखंड अध्यक्ष कैलाशपति सिंह,जिप सदस्य रवि सिंह , मुखिया परवीन बॉबी ,पूर्व अजजा मोर्चा भाजपा के प्रखंड अध्यक्ष रामलाल टुडू ,सीताराम टुडू ने किसानों को मुआवजा जल्द देने की मांग डीएफओ से की है । इन्होंने हाथियों से सुरक्षा के कोई ठोस उपाय करने का भी आग्रह किया है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021