जागरण संवाददाता, हजारीबाग : हजारीबाग में केरोसिन में हुए विस्फोट से दो लोगों की मौत के बाद जिला प्रशासन सतर्क हो गया है। इधर एसएफएसएल (स्टेट फारेंसिक साइंस लैब) से जिला प्रशासन को लिए गए केरोसिन सैंपल की रिपोर्ट नहीं मिली। जिला आपूर्ति पदाधिकारी अरविद कुमार ने बताया कि फारेंसिक रिपोर्ट आने में एक से दो दिनों का समय लग सकता है।

प्रशासन ने गुरुवार को सदर प्रखंड के सभी 37 डीलरों को सख्त चेतावनी देते हुए केरोसिन के आवंटन पर रोक लगाने को कहा है। साथ ही लाभुकों के घर जाकर उन्हें फिलहाल केरोसिन का इस्तेमाल न करने को कहा गया है। साथ ही सदर प्रखंड के संबंधित पंचायतों के मुखिया भी लोगों को जागरूक कर रहे हैं। सूचना के मुताबिक 4000 से अधिक लाभुकों को यह तेल आवंटित हुआ है। वहीं जिला प्रशासन को आगे की कार्रवाई के लिए फारेंसिक लैब की रिपोर्ट का इंतजार है। घटना की गंभीरता को देखते हुए आइओसीएल की डीजीएम कौशिक चटर्जी स्वयं अपने अधिकारियों के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। उनकी टीम ने गुरुवार को भी सैंपल कलेक्ट किया और घटना में पीड़ित लोगों से भी मिली। मालूम हो कि 13 जनवरी को आर्मी ट्रेडिग कंपनी के माध्यम से 11,774 लीटर केरोसिन आया था, जिसे 37 डीलरों में आवंटित किया गया था। अन्य सभी डीलरों को पहले ही केरोसिन के आवंटन पर रोक लगा दी गई है।

------------- दूसरे ट्रेडिग कंपनी के केरोसिन को लेकर सतर्क, सैंपल जांच का निर्देश आर्मी ट्रेडिग कंपनी के अलावा जिले में दूसरी कंपनी के केरोसिन आवंटन को लेकर भी प्रशासन सतर्क है। उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद ने आइओसीएल को इसे लेकर निर्देश दिया है। बताया कि अभी तक कहीं और से ऐसी शिकायत नहीं है। लेकिन, इसके बावजूद दूसरे सैंपल की जांच करने को कहा गया है। गुरुवार को भी कुछ सैंपल आइओसीएल ने लिए हैं। बताया कि रिपोर्ट आने के बाद भी कोई ठोस कार्रवाई की जाएगी। एथोनोल, स्प्रीट या पेट्रोल के मिश्रण से विस्फोट संभव : डा. इंद्रजीत रसायनशास्त्र विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष व विभावि के डीएसडब्लू डा. इंद्रजीत ने बताया कि केरोसिन अति ज्वलनशील पदार्थ नहीं है। घरेलू उपयोग को देखते हुए इसका निर्माण ऐसे ही किया जाता है। सदर प्रखंड में जो भी घटनाएं हुई है उनमें यह कामन बात है कि सभी घटनाएं जलते दीये या लैंप में तेल डालने के क्रम में हुई। यह तभी संभव है जब उसमें अति ज्वलनशील पदार्थ का मिश्रण हो। संभव है केरोसिन में एथोनोल, स्प्रीट या पट्रोल का मिश्रण हो, जिसके कारण विस्फोट हुआ। उन्होंने अपने बचपन की घटना का उदाहरण देते हुए बताया कि उनके गांव में केरोसिन की चोरी हो रही थी। चोरों की पहचान के लिए उसमें संबंधित दुकानदार ने पेट्रोल मिश्रित कर दिया था और दूसरे दिन जब चोर ने उसका उपयोग किया तो विस्फोट हुआ और वह पकड़ा गया।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021