संसू, इचाक(हजारीबाग): परासी गांव के ग्रामीणों ने परासी के वन भूमि पर विभाग द्वारा निर्मित चेक डैम के निर्माण में अनियमितता का आरोप लगाया। इस बाबत ग्रामीणों ने संयुक्त हस्ताक्षर युक्त एक आवेदन डीसी को सौंप कर मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग किया है। ग्रामीणों द्वारा डीसी को दिए गए आवेदन में कहा है कि परासी जंगल में हजारीबाग पश्चिमी वन प्रमंडल द्वारा चेक डैम का निर्माण वर्षा जल संचयन संरचना स्कीम के तहत कराया गया है। इसमें घटिया सामग्री का उपयोग किया गया है। जिसके कारण बरसात आगमन से पूर्व डैम के जर्जर स्थिति का पोल खुलने लगी है। आवेदन में कहा गया है कि प्राक्कलन के मुताबिक डैम की गहराई कम होने के साथ ही घटिया किस्म के पत्थर लगाया गया है जिस कारण डैम के अस्तित्व पर खतरा का बादल अभी से ही मंडराने लगा है। ग्रामीणों ने मामले की जांच कर दोषी गर्मियों पर करवाई करने की मांग की है। विभाग के रेंजर सुरेश प्रसाद ने कहा कि जंगली जीव जंतुओं को पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए प्रशासन संग्रह की दृष्टि से विभाग द्वारा चेक डैम का निर्माण कराया गया है। इसमें प्राकलन के अनुसार काम किया गया है। लोगों का आरोप लगाना बिल्कुल गलत है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस