संवाद सूत्र टाटीझरिया: प्रखंड के खैरा पंचायत रोजगार सेवक कृष्ण कुमार पर मनरेगा की योजनाओं में लूट पर जांचोंपरांत भेद खुले। इनमें 2016-17 और 2017-18 में इन्होंने वैसे लोगों के खाता में मेठ का पैसा डाला ,जो मेठ थे ही नहीं। मेठ का चयन बिना ग्राम सभा किये किया गया था। योजनाओं में एक ही मेठ रहने का प्रावधान है, लेकिन इन्होंने एक से अधिक व्यक्तियों को मेट बनाया था। मेट के भुगतान वाउचर के माध्यम से किया गया है, जो नियम विरुद्ध है। जांच के बाद समीक्षाकर आदेश दिया गया कि कृष्ण कुमार और अमित कुमार को तत्काल प्रभाव से सेवामुक्त किया जाए और गबन के मामले में प्राथमिकी दर्ज किया जाए।

तत्कालीन बीडीओ कुमुदिनी टुडू के विरुद्ध प्रपत्र क में आरोप पत्र गठित करते हुए ग्रामीण विकास विभाग रांची को प्रतिवेदित किया जाए। राशि के गबन में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष भूमिका देखते हुए तत्कालीन बीपीओ सहायक अभियंता मनरेगा, कनीय अभियंता मनरेगा, पंचायत सेवक और मुखिया की संलिप्तता मानते हुए सभी पर सरकारी राशि के गबन मामले में प्राथमिकी दर्ज करने को कहा गया है। मुखिया खैरा की वित्तीय शक्ति जब्त करने के लिए जिला पंचायत राज पदाधिकारी कार्रवाई को कहा गया है।

इनके एकाउंट में डाले गए पैसे

अनिता देवी -119000, अमित कुमार सिंह- 226000, अरुण कुमार- 9000, जुली सिंह 144000, देवकुमार महतो 5000,

सन्नी कुमार- 10000, सुनैना देवी- 86000, सुनीता देवी- 32000, संजय राम- 9000, राजन भारद्वाज- 219000, रामेश्वर महतो- 6000,

रामदुलारी देवी- 76100, रीना देवी 10000, रवि कुमार- 10000, रंजीत कुमार पांडेय 177200, गिरजा देवी- 11110, नीति सिंह- 144000,

शिववचन सिंह-100000, किरण देवी -11110, मुनिया देवी-12000, कुसुम कुमारी -207000, कौशल्या देवी 2220, बासुदेव राम 9000,

धनेश्वर लाल सिंह 194000, धमनी देवी 10000, शुभम कुमार 10000, शीला देवी 1110, शशिकांत सिंह 20000

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस