जासं, हजारीबाग : गरीब कल्याण रोजगार अभियान से जोड़कर मानव श्रम को नियोजित करते हुए गांव व पर्यावरण को समृद्ध करने के लिए संचालित योजनाओं की समीक्षा बैठक उपायुक्त डॉ. भुवनेश प्रताप सिंह की अध्यक्षता में सूचना भवन सभागार में हुई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने कहा जिला में लगभग 62 हजार प्रवासी श्रमिकों की घर वापसी हुई है। प्रखंड विकास अधिकारी प्रवासी मजदूरों का स्किल मैपिग कराने में पंचायत के मुखिया से समन्वय बनाते हुए मजदूरों का सूचीबद्ध करें। मुख्यमंत्री राहत पैकेट प्राप्त करने वाले शत प्रतिशत अकुशल श्रमिकों का मनरेगा जॉब कार्ड बनाकर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराएं। समीक्षा के क्रम में घर वापसी कर चुके प्रवासी कामगारों के मुकाबले कम जॉब कार्ड बनाए जाने पर उपायुक्त ने नाराजगी जताई। समीक्षा के क्रम में रोजगार सृजन से सम्बंधित कई पंचायतों में 10 से कम योजनाओं के चयन किए जाने पर स्थिति को चिताजनक बताते हुए कहा सभी मुखिया अपने-अपने पंचायतों में 5-5 लाख रुपए तक की कम से कम 20 योजनाओं का चयन एवं उन्हें स्वीकृत कर काम प्रारंभ कराएं। साथ ही कहा किसी भी सरकारी व निजी कार्य मे जेसीबी मशीन का उपयोग की अनुमति बगैर अंचलाधिकारी अथवा कार्यपालक अभियंता के नहीं की जाएंगी। बगैर अनुमति जेसीबी को जब्त कर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश उपायुक्त ने दिया। प्रधानमंत्री आवास की समीक्षा के क्रम में बरही, डाडी, विष्णुगढ़, ईचाक प्रखंडों में चयनित लाभुकों के प्रथम किस्त भुगतान में विलंब होने पर प्रखंड विकास अधिकारियों से नाराजगी जताते हुए प्रधानमंत्री आवास के प्रखंड समन्वयक को फटकार लगाई। बैठक में उपायुक्त, सदर एसडीओ, डायरेक्टर डीआरडीए, पंचायती राज पदाधिकारी, वरीय पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी तथा प्रधानमंत्री आवास के प्रखंड समन्वयक प्रमुख रूप से उपस्थित थे7

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस