हजारीबाग : स्थानीय प्रधान कैफेटेरिया के हॉल में 24 जनवरी से लगातार कला संस्कृति विभाग, झारखंड सरकार, के सौजन्य से हजारीबाग की लोकप्रिय नाट्य संस्था, सम्राट द्वारा नाट्य कार्यशाला में हजारीबाग जिला के कलाकारों को प्रत्येक दिन प्रशिक्षण दी जा रही है। अंतिम प्रशिक्षण कार्यशाला में अभिनेता व निर्देशक अमरेंद्र विद्यार्थी ने फिल्म और रंगमंच में सामंजस्य को समझाया। तीनों कलाओं में क्या क्या फर्क है यह समझाया। कलाकारों को कैसे अपना फर्ज अदा करना चाहिए, कैरेक्टर को निभाना चाहिए, इसके बारे में बताये तथा अभिनय की बारीकियों को खुद एक्टिग कर प्रशिक्षु कलाकारों को समझाया।

रविवार 9 फरवरी 2020 को प्रधान कैफेटेरिया के प्रांगण में संध्या 5:00 बजे से सुप्रसिद्ध कथाकार रतन वर्मा द्वारा रचितÞ हरिश्चंद्र का पुनर्जन्मÞ हास्य व्यंग्य नाटक का प्रदर्शन किया जाएगा। उसके पूर्व गीत और नृत्य कार्यक्रम भी पेश किया जाएगा। इस कार्यक्रम से यहां की प्रतिभा को आगे बढ़ने का अवसर प्राप्त होगा और यहां के दर्शक उनकी कलाओं से रूबरू हो सकेंगे। तथा नाटकों के प्रति युवाओं में रुझान पैदा होगा। इस कार्यक्रम को देखने के लिए प्रवेश नि:शुल्क है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस