हजारीबाग : स्थानीय जैक एण्ड जिल स्कूल में 33वां स्थापना दिवस समारोह धूम-धाम से मनाया गया। सर्व प्रथम दीप प्रज्वलित एवं माल्यार्पण के बाद विद्यालय कि प्राचार्या सुरभि राय और सचिव मिथिलेश कुमार ने अपने उद्बोधन में 33 वर्ष पूरे होने पर विद्यालय से जुडे सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं, कार्यकत्र्ताओं, अभिभावकों एवं विद्यार्थियों को शुभकामनाएं एवं बधाई दी। उन्होंने बताया कैसे यह 6 विद्यार्थियों एवं दो कमरों से आरम्भ होने वाला स्कूल आज हजारीबाग के गिने चुने विद्यालयों में से एक है। इसकी एक शाखा सिघानी में सीबीएसई की मान्यता के साथ चल रहा है। अभी दोनो शाखाओं में लगभग 2300 बच्चे अध्ययनरत हैं। इस अवसर पर लगातार दो दिनों तक रंगारंग संास्कृतिक कार्यक्रम विद्यालय के बच्चों द्वारा प्रस्तूत किया गया। नर्सरी के बच्चों के द्वारा फैन्सीड्रेस, एलकेजी के बच्चों द्वारा छोटा बच्चा जान के गाने पर नृत्य किया। इसके अलावा ग्रुप डान्स, सोलो डान्स, ग्रुप सॉग, सोलो सॉग तथा कक्षा 7वीं एवं 8वीं के बच्चियों द्वारा प्रस्तूत नाटक “बेटी बचाओ, बेटीपढ़ाओ'' को बहुत सराहना मिली। नर्सरी से 8वीं के बच्चों द्वारा 35 से 40 कार्यक्रम प्रस्तूत किए गए। विद्यालय प्रबंधन ने 100 प्रतिशत उपस्थिति वाले छात्रों को प्रोतसाहन हेतू सर्टिफिकेट प्रदान किए। शिक्षिका पायल के द्वारा सांस्कृतिक नृत्य, शिक्षिक कुलतार के द्वारा पंजाबी गाना एवं संगीत शिक्षिक बिसवास के द्वारा पुराने नगमें भी पेश किए गए। कार्यक्रम की रोचकता अंत तक बनी रही। कार्यक्रम का सफल संचालन श्यामल गुप्ता एवं आसफा जबीन ने किया। इस कार्यक्रम को सफल बनाने में शीला रूद्रा, अनामई दत्ता, शाहिना नसरीन, अर्चना, पायल, शीला, नीकिता, हुमा, शफक, दिपिका, रजनी, शिपरा, शालू, उमा, प्रतिभा, प्रिसी, अंजना, फौजिया, रेखा, झिलमिल, सुषमा, रूखसार, स्नेहा, अपाराजिता, निलम, मनीष, अनिमेश, बिकाश, पिकू, कुलतार, कालीचरन, प्रमोद सिंह, विक्रम मनोज, नितिन, बसंत शाहिद एंव अलबर जिशान आदि ने पूरा योगदान दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस