संवाद सहयोगी, हजारीबाग। हजारबागों के शहर हजारीबाग में गुजरात के प्रसिद्ध अक्षरधाम मंदिर की तर्ज पर राम मंदिर का निर्माण किया जाएगा। केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री सह सांसद जयंत सिन्हा ने इसके लिए सार्थक पहल की है, तीन साल में यह मंदिर आकार लेगा। मंदिर प्रागंण में भारतीय संस्कृति, भगवान राम और हजारीबाग के ऐतिहासिक रामनवमी से जुड़ी संस्कृति की झलक भी मिलेगी। उक्त बातें सांसद सह मंत्री जयंत सिन्हा ने प्रेसवार्ता कहीं है।

सांसद आवास में आयोजित प्रेसवार्ता में सिन्हा ने कहा कि 10 एकड़ जमीन पर मंदिर की स्थापना की जाएगी। जमीन की तलाश की जा रही है। हजारीबाग का राम मंदिर मां छिन्नमस्तिके और भद्रकाली की तरह प्रसिद्ध होगा और इसमें बाग बगीचे होंगे। मंदिर में अभिषेक मंडप, सत्संग भवन, प्रसाद कक्ष, हजारीबाग के इतिहास को दर्शाने वाली प्रदर्शनी, मनोरम उद्यान, पानी के सुंदर फव्वारे आदि होंगे। सांसद ने बताया कि भगवान राम के भक्त हनुमान गुमला आंजन के थे और झारखंड से सेवक होने के नाते हमारा राम से स्वाभाविक जुड़ाव है।

पर्यटन के दृष्टिकोण से भी यह मंदिर बेहतर होगा और लोगों को रोजगार भी उपलब्ध कराएगा। मंदिर का निर्माण कई चरणों में होगा। आम जन की सहायता से मंदिर का निर्माण होगा और इसके लिए कई कंपनियों ने सहायता करने की बात कहीं है। सांसद आवास पर प्रेसवार्ता में विधायक मनीष जायसवाल भी उपस्थित थे। मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष टुन्नू गोप, अमरदीप यादव सहित कई लोग उपस्थित थे।

हजारीबाग में दशमी रात में भी पार हो जुलूस, इसकी करेंगे पहल

सवालों के जवाब देते हुए कहा कि 33 साल से बंद बड़कागांव के महुदी में आम जन के प्रयास से जुलूस निकला। सीएम और जिला प्रशासन इसके लिए धन्यवाद के पात्र है। इसी तर्ज पर हजारीबाग में जुलूस दशमीं की रात में मस्जिद रोड से जुलूस पार हो इसके लिए भी बैठकर निर्णय लिया जाएगा। इसके लिए बकायदा योजना बनाई जा रही है। जल्द ही इस दिशा में पहल की जाएगी और इसकी शुरुआत उनके द्वारा होगी। 

By Sachin Mishra