जमीन का मुआवजा के लिए ग्रामीण कर रहे हैं आंदोलन

अपने जमीन का उचित मुआवजा के लिए लोगों को करना पड़ रहा है आंदोलन

संवाद सूत्र,बिशुनपुर (गुमला): बिशुनपुर में जिन रैयतों के जमीन से बाक्साइट निकालकर कंपनी मालामाल हो रहे हैं उन रैयतों को जमीन का उचित मुआवजा नहीं मिल पा रहा है। इसे लेकर बिशुपुर क्षेत्र के पश्चिमी पठारी क्षेत्र आधा दर्जन गांव के लोग पिछले एक महीने से गोलबंद होकर हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। छह वर्ष वर्ष पूर्व चीरोडिह अमतिपानी बाक्साइट माइन्स के नाम से बनारी में पब्लिक हियरिंग हुआ था। जहां पर गांव के लोग बाक्साइड निकालने के लिए कंपनी को अपना जमीन देने को तैयार हो गए थे। कंपनी लगभग तैयारी पूरी कर चुकी है और चीरोडिह अमतिपानी बॉक्साइड माइंस में खनन का काम प्रारंभ होने वाला है। लेकिन तक रैयतों को एक फूटी कौड़ी नसीब नहीं हुई है। ग्रामीण जमीन का उचित मुआवजा एवं बुनियादी सुविधा उपलब्ध कराने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। इसी सोमवार को निमित्त छाता सरई गांव में बैठक आयोजित किया गया। जहां पर ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि लगातार वे लोग एक महीने से प्रत्येक रविवार को बैठक कर यह चर्चा कर रहे हैं।

Edited By: Jagran