जागरण संवाददाता, गुमला : उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा एवं पुलिस अधीक्षक हृदीप पी जनार्दनन की संयुक्त अध्यक्षता में सरहुल एवं रामनवमी पर्व के मद्देनजर गुमला जिले में शांति व्यवस्था, विधि व्यवस्था के संधारण हेतु जिला स्तरीय शांति समिति की बैठक नगर भवन में मंगलवार को हुई। बैठक में उपायुक्त ने आगामी सरहुल, रामनवमी, चैती दुर्गा पूजा, चैती छठ तथा रमजान पर्व के लिए गुमलावासियों को अग्रिम बधाई देते हुए सभी पर्वों को कोविड-19 के दिशा-निर्देश के आलोक में मनाने की अपील की। पूजा स्थल पर केवल 20 व्यक्तियों को ही पूजा-अर्चना करने की अनुमति दिए जाने का निर्देश दिया गया है। पुलिस अधीक्षक हृदीप पी.जनार्दनन ने कोरोना वायरस के बढ़ते प्रसार को नियंत्रित करने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा आगामी सरहुल एवं रामनवमी पर्व के अवसर पर किसी भी प्रकार के जुलूस नहीं निकालने का निर्देश है। बैठक में अपर समाहत्र्ता सुधीर कुमार गुप्ता ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में लोगों को कोरोना वायरस के प्रति संजिदा एवं सजग होने की आवश्यकता है। बैठक में सदर अनुमंडल पदाधिकारी रवि आनंद ने कहा कि गुमला जिले में भी जारी निषेधाज्ञा के आलोक में कोरोना वायरस के फैलाव के मद्देनजर आगामी सरहुल, रामनवमी पर किसी भी प्रकार के जुलूस को न निकालने का निर्देश दिया गया है। इस मौके पर नगर परिषद अध्यक्ष दीपनारायण उरांव ने भी बैठक को संबोधित किया। बैठक में शांति समिति के सदस्य रमेश कुमार चीनी, रविद्र सिंह, निर्मल गोयल, लायन्स क्लब के अशोक कुमार जयसवाल, दामोदर कसेरा, मुरली मनोहर प्रसाद, आशिक अंसारी, महावीर मंडल के अध्यक्ष शशिप्रिय बंटी आदि ने पर्व के अवसर पर विधि-व्यवस्था संधारण को लेकर अपने-अपने विचार साझा किए।