गुमला : खरमास की समाप्ति के बाद गुमला जिला जैसे जनजातीय क्षेत्र में सोमवार को मकर संक्रांति का परंपरागत तरीके से मनाया गया। जगह-जगह नदियों के किनारे लोगों ने स्नान ध्यान कर भगवान मकर ध्वज की पूजा-अर्चना की। दही चूड़ा और तिलकूट ग्रहण किया। नागफेनी में भगवान मकर ध्वज की रथ यात्रा निकाली गई जिसमें हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। मकर संक्रांति के अवसर पर नदियों के तट पर मकर सक्रांति मेला का आयोजन किया गया। जिसमें पद्मश्री अशोक भगत और केंद्रीय जनजातीय मामलों के राज्य मंत्री सुदर्शन भगत ने भाग लिया। गुमला सिसई अचंल की सीमा पर दक्षिण कोयल नदी में श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगायी और प्राचीन जगन्नाथ मंदिर में भगवान मकर ध्वज, शिव और भगवान जगरन्नाथ की पूजा की और गरीबों के बीच दान पुण्य कर भगवान से सुख शांति और समृद्धि की मंगलकामना की। नागफेनी में राज्य सभा सांसद समीर उरांव और विधान सभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने भी जगरनाथ मंदिर में माथा टेका और क्षेत्र के विकास की मंगलकामना की। विधान सभा अध्यक्ष ने रथ भी खींचे। इस अवसर पर मेला लगा था जिसमें दैनिक उपयोग के सामग्री, बच्चों के खिलौने, मिठाई, लजीज व्यंजन सहित मनोरंज के दुकानें लगी थी। रायडीह के हीरादह धाम में केंद्रीय जनजातीय मंत्री सुदर्शन भगत ने भाग लिया और लोगों को मकर सक्रांति की बधाई दी। यहां भी मेला का आयोजन किया। मेला समिति द्वारा मंत्री का स्वागत किया गया। हीरादह धाम में बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने भी मोटरसाइकिल काफीला में जयश्रीराम का नारा लगाते हुए पहुंचे। बसिया के कलिगा बजरंगबली मैदान में मकर सक्रांति मेला का आयोजन किया गया जिसमें नागपुरी रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कुम्हार समाज के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र महतो, मिट्टी कला बोर्ड के सदस्य ईश्वर प्रजापति कुम्हार समाज के कार्यकारी अध्यक्ष बालमुकुन्द महतो,बसिया कुम्हार समाज के प्रखण्ड अध्यक्ष बिनोद महतो, मुखिय आलोक टोप्पो आदि उपस्थित थे। चंदन दास  ग्रुप ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। बिनोद महतो, प्रवीण ¨सह, रितेश साही मनोज साहू, गौतम महतो राजकुमार साहू, सुमन महतो, कोथरो पहान पवन साहू मोहन महतो आदि ने कार्यक्रम में सहयोग किया। पर्यटक स्थल बाघमुंडा में मकर संक्रांति के अवसर पर शिव मंदिर परिसर में 24 घंटे का अखंड हरिकीर्तन किया गया। जिसमें लोवा, विन्धनचुंवा, बम्बियारी,गाड़ा, गोहारम, लवाकेरा आदि गांव के लोगों ने भाग लिए। कार्यक्रम के सफल संचालन में पुनीत ¨सह, जगेश्वर ¨सह,गंगाराम ¨सह, संदीप ¨सह, सुरेश ¨सह आदि की अहम भूमिका निभाए। घाघरा प्रखंड क्षेत्र के गुटुवा कोयल नदी के किनारे मकर संक्रांति के अवसर पर मेला का आयोजन किया गया। मेला में पद्मश्री अशोक भगत व विशिष्ट अतिथि डीआइजी होमकार अमोल वेणुकांत ने दीप प्रज्वलित कर मेला का शुभारंभ किया। अशोक भगत ने कहा कि मकर संक्रांति के दिन खरमास समाप्त होता है और आज के दिन से ही हम अच्छे कार्यों की शुरुआत करते है। आज समाजिक कुरीतियों को खत्म करने का संकल्प लेंगे।

डीआइजी होमकार अमोल वेणुकांत ने कहा कि यह क्षेत्र उग्रवाद प्रभावित था अब लोग जागरूक हुए हैं। क्षेत्र का विकास हो रहा है। मौके पर मुख्य रूप से डीएसपी विमल प्रसाद, इंस्पेक्टर डीके बर्मा, अशोक उरांव, रामनंदन साहू, तेम्बू उरांव, लाल सुरेंद्र नाथ शाहदेव, विपिन बिहारी ¨सह, रणजीत साहू, जयपाल साहू, सुफल उरांव, सुनील ¨सह, गोपाल गोप, मनोज ¨सह, करणपाल देवघरिया, रूपेश ¨सह, प्रवीण ¨सह,अमित ठाकुर व नितेश ¨सह सहित कई लोग मौजूद थे। घाघरा के सॉलिटेयर एजुकेशनल एकेडमी मकरा में भी मकर संक्रांति का पर्व मनाया गया। बच्चों के बीच दही चूड़ा गुड़ का वितरण किया गया और सामूहिक भोजन किए। मौके पर  सचिव अंकिता, प्रबंधक चंद्रकांत पाठक ¨प्रसिपल नितेश रंजन भास्कर, कृष्णकांत,र¨वद्रकांत,रामसुन्दर,रश्मि ,नेहा,प्रीति,अल्पना,कुसुम,दीप,विनीता,नसीम,अभिनव,अनूप,प्रत्युषा,आंचल आदि शामिल थे। कामडारा    मकर संक्रांति का पर्व मनाया गया। दक्षिण कोयल नदी    सहित पवित्र नदियों सरोवरों में स्नान कर  भगवान  की  पूजा अर्चना की गई। सुख समृद्धि की ईश्वर से प्रार्थना की गई।  सालेगुटु  में  मकर संक्रांति का मेला लगा जिसमें मुर्गा  लडा़ई आकर्षण का केन्द्र रहा।

Posted By: Jagran