वीड------------

जांच टीम ने की पहल, ईंट भट्ठे पर फंसे थे श्रमिक

जागरण संवाददाता, गुमला : राज्य प्रवासी मजदूर नियंत्रण कक्ष को ईंट भट्ठे में काम करने वाले छत्तीसगढ़ राज्य के जांजगीर चांपा तथा बलौदा बाजार जिले के मजदूरों ने दूरभाष के माध्यम से संपर्क कर बताया था कि वे सभी अपने घर छत्तीसगढ़ वापस जाना चाहते हैं कितु ईंट भट्ठे के मालिक नईम मीरदाहा द्वारा श्रमिकों को घर वापस जाने नहीं दिया जा रहा है। इस संबंध में शनिवार को संयुक्त टीम द्वारा जांच की गई। श्रमिकों से पूछताछ भी की गई। पूछताछ के दौरान सभी श्रमिकों ने घर वापस लौटने की इच्छा जाहिर की। जिस पर टीम द्वारा सभी श्रमिकों को सकुशल उनके राज्य वापस भेजने हेतु ईंट भट्ठा के मालिक एवं श्रमिकों के बीच में आपस में समझौता कराया गया। समझौता कराने के बाद ईंट भट्ठे के मालिक द्वारा सभी श्रमिकों को घर वापस भेजने हेतु 12800 रुपये वाहन का किराया तथा चार हजार रुपये राहगीर खर्च के रूप में उपलब्ध कराया गया। ज्ञातव्य है कि ईंट भट्ठे में कार्य करने वाले छत्तीसगढ़ के श्रमिक परिवारों के कुल 32 लोगों को शनिवार को जिला प्रशासन के सहयोग से सकुशल उनके राज्य वापस भेजा गया। मुक्त कराये गए श्रमिकों में जांजगीर-चांपा जिला के मुक्ता ग्राम निवासी बबलू महिलागे, बलौदाबाजार जिला के कहरौत ग्राम निवासी मुचु पुरेना, बलौदा बाजार जिले के बिरकुलि ग्राम निवासी दादूराम खरे, जांजगीर-चांपा जिला के मुक्ता ग्राम निवासी राजकुमार महिलागे, जांजगीर चांपा जिला के करमंदी ग्राम निवासी सतेश्वर लाहिरी, दोयाडीह ग्राम निवासी मनोज भारद्वाज तथा बलोदा बाजार जिला के कहारौद ग्राम निवासी चंदू मारकंडे तथा उनके परिवार के सदस्य शामिल हैं।

Edited By: Jagran