गुमला: मुख्यमंत्री जन संवाद के तहत मंगलवार को मुख्यमंत्री की सीधी बात की समीक्षा अवर सचिव रामाकांत ¨सह ने समीक्षा की। समीक्षा में वीडियो कांफ्रे¨सग के माध्यम से मुख्यमंत्री जन संवाद के तहत दर्ज लंबित शिकायतों की समीक्षा सूचना भवन स्थित सभागार से की गई। समीक्षा में कुल 15 मामलों की सुनवाई हुई। जिसमें गुमला जिला से मनरेगा योजना के तहत फर्जी निकासी से संबंधित एक मामला को लिया गया था। प्रखंड विकास कार्यालय सिसई का वित्तीय वर्ष 2014-15 में साखो उरांव के जमीन पर तालाब निर्माण स्वीकृत की गई थी। लेकिन उक्त स्थल पर तालाब का निर्माण ना कर फर्जी मास्टर रोल बनाकर पूरे राशि की निकासी कर ली गई है। साथ ही दूसरी योजना वित्तीय वर्ष 2014-15 में पोटरो चबूतरा से लेकर छैथा अम्बा तक कालीकरण सड़क निर्माण स्वीकृत की गई थी, जहाँ सड़क का आधा अधूरा निर्माण कर फर्जी तरीके से मास्टर रोल बनाकर पूरे राशि की निकासी कर ली गई है एवं मजदूरों को मजदूरी भुगतान भी नहीं किया गया। रामाकांत ¨सह ने मामले का जल्द से जल्द निष्पादन करने का निर्देश दिया। इस पर नोडल पदाधिकारी अपर समाहर्ता ने बताया मनरेगा कर्मियों का भुगतान की प्रक्रिया चल रही है। अवर सचिव ने इसके अलावे जन संवाद के मामलों के निष्पादन में तेजी लाने का निर्देश दिया। मौके अपर समाहर्ता सह नोडल पदाधिकारी जन संवाद केन्द्र गुमला आलोक शिकारी कच्छप, अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक, जिला शिक्षा अधीक्षक गनौरी मिस्त्री, सहित सभी संबंधित विभागों के पदाधिकारी एवं कार्यपालक अभियंता उपस्थित थे।

Posted By: Jagran