श्री बंशीधर नगर: थाना क्षेत्र के गंगटी गांव निवासी 58 वर्षीय परम सोती साव का क्षत-विक्षत नर कंकाल घर से उसके गायब होने के 13 वें दिन रविवार को कुंबा जंगल के बरवा ढोड़ा से बरामद किया गया। इस संबंध में मृतक के पुत्र अमरेश गुप्ता ने बताया कि पिताजी गत 10 सितंबर को सुबह करमा का त्यौहार देखने के लिए अमरसरई गांव निवासी अपने दोस्त मानदेय उरांव के यहां गए थे। उसने बताया कि पिताजी ने कहा था कि करमा देखकर मैं तुलसीदामर माइंस काम पर चला जाऊंगा। अमरेश ने बताया कि पिताजी तुलसीदामर माइंस में मजदूरी करते थे तथा सप्ताह में एक दिन तुलसीदामर से घर आते थे। गत सोमवार व मंगलवार को घर नहीं आने पर बुधवार से उनकी खोजबीन शुरू की गई, परंतु उनका कहीं पता नहीं चला। गत शुक्रवार को थाने में गुमशुदगी की सूचना दिया। बकौल अमरेश शनिवार की रात अमरसरई से मानदेव उरांव के द्वारा सूचना मिली की एक नर कंकाल बरवाढोड़ा में है। वहीं परम सोती का कपड़ा, छाता आदि रखा हुआ है। अहले सुबह सूचना के अनुसार जंगल में गया तो वहां क्षत-विक्षत नर कंकाल पड़ा हुआ था। गर्दन से ऊपर का भाग अलग था, हाथ, पैर, छाती, रीड़ की हड्डी अलग-अलग थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने नर कंकाल को •ाब्त कर थाना ले आई है। इस संबंध में थाना प्रभारी पंकज कुमार तिवारी ने कहा कि प्रथम ²ष्टया यह हत्या का मामला लगता है। फॉरेंसिक जांच के बाद ही पूरा वाक्या स्पष्ट हो सकेगा। इधर अमरेश ने बताया कि गत 12 सितंबर को पिताजी का आधार कार्ड मानदेय उरांव के घर से करीब 1 किलोमीटर दक्षिण रामप्यारी उरांव को मिला था। बकौल अमरेश पिताजी के डंडा व कपड़े पर खून पाया गया। इससे प्रतीत होता है की उनकी हत्या कर वहां फेंक दिया गया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप