संवाद सूत्र, घाघरा (गुमला): घाघरा थाना क्षेत्र के सरांगो गांव के समीप 16 सितंबर को ट्रक चालक रामनाथ उरांव की हत्या में टेमना महतो व पत्नी सुगंती देवी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। यह जानकारी प्रेसवार्ता में अनुमंडल पदाधिकारी मनीष चंद्र लाल ने दी। उन्होंने बताया कि ट्रक चालक की हत्या अवैध संबंध को लेकर की गई थी। रामनाथ की हत्या कुल्हाड़ी से मारकर टेमना महतो की थी। टेमना ने अपना अपराध स्वीकार करते हुए बताया कि वह ट्रक में खलासी का काम करता था। खलासी का काम करने के बाद जब घर लौटा तो घर का दरवाजा बंद था। अंदर झांक कर देखा तो उसकी पत्नी और रामनाथ आपत्तिजनक स्थिति में थे। जिसे देखकर उससे गुस्सा आ गया और घर में रखे कुल्हाड़ी से रामनाथ के सिर पर वार कर दिया, जिससे रामनाथ गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल रामनाथ को उसकी पत्नी ने उठाकर पोखरा टोली बाघ डेगवा नाला के समीप जाकर फेंक दिया। रात भर जख्मी हालत में होने के कारण व अधिक खून बह जाने के कारण रामनाथ की मौत हो गई। सुबह ग्रामीणों ने शव देखकर इसकी सूचना पुलिस को दी। मामले के खुलासे के लिए पुलिस ने रामनाथ की पत्नी से पूछताछ की । पत्नी ने पुलिस को अवैध संबंध की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने टेमना महतो व उसकी पत्नी से पूछताछ की। पहले तो दोनों ने हत्या करने से इंकार कर दिया। लेकिन जब पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की तो दोनों टूट गए और पुलिस के समक्ष सच्चाई बता दी। मामले को लेकर पुलिस अधिकारी ने एक टीम का गठन किया था। इसी टीम थाना प्रभारी आकाश कुमार पांडेय, सब इंस्पेक्टर कौशलेंद्र कुमार के अलावा पुलिस बल के जवान भी शामिल किए गए थे। ट्रक चालक रामनाथ उरांव के शव उसके ही घर से एक किलोमीटर की दूरी पर फेंक दिया गया था। जिसकी पहले तो पहचान नहीं हुई। बाद में ग्रामीणों ने उसकी पहचान कर इसकी जानकारी मृतक की पत्नी को दी थी।

Edited By: Jagran