संवाद सहयोगी, गोड्डा : आधिकारिक रूप से तो नहीं लेकिन सांसद की घोषणा के अनुसार 26 सितंबर से गोड्डा से रांची के लिए सीधी ट्रेन का परिचालन शुरू हो जाएगा। अभी ट्रेन का परिचालन शुरू भी नहीं हुआ है कि लोग इसके रूट में बदलाव की मांग करने लगे हैं। फिलहाल जो सांसद की घोषणा में कहा गया है उसके मुताबिक गोड्डा-रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस 26 सितंबर से गोड्डा से खुल कर वाया हंसडीहा, किउल होते हुए रांची जाएगी। लोगों का कहना है कि यह रूट लोगों के लिए उपयोगी नहीं होगा। अगर इस ट्रेन को वाया हंसडीहा, दुमका, जसीडीह होते हुए रांची के लिए चलाई जाए तो लोगों को काफी सुविधा होगी और रेलवे को पैसेंजर भी ज्यादा होंगे। तय रूट से ट्रेन को जसीडीह पहुंचने में करीब आठ घंटे लग जाएंगे जबकि वाया दुमका ट्रेन जसीडीह तीन घंटे में पहुंच रही है।

सांसद करे एक और पहल

इस बाबत युवा मुकेश कुमार, मनोज कुमार, छात्र सुमित कुमार आदि ने कहा कि सांसद के प्रयास से यह गाड़ी शुरू हो रही है ऐसे में रेल मंत्रालय व सांसद डा. निशिकांत दुबे को गोड्डा-रांची एक्सप्रेस ट्रेन को दुमका जसीडीह होकर ही चलाया जाना चाहिए ताकि इससे संतालपरगना के लोगों को अधिक से अधिक फायदा हो सके। पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष राजेश कुमार झा ने कहा कि पहले शुरू तो हो इसके बाद समय व रूट में ही बदलाव हो जायेगा इस दिशा में सांसद डा. निशिकांत दुबे खुद ही प्रयासरत रहे हैं कि जनता को बेहतर सुविधा मिले।

आधिकारिक स्वीकृति नहीं मिली

इधर पूर्व रेलवे के मालदा डिवीजन के मुताबिक अबतक बोर्ड से अधिकारिक रूप से पत्र नहीं आया है लेकिन यह तय है कि फिलहाल पुराने रूट यानि की गोड्डा-भागलपुर क्यूल होकर ही रांची एक्सप्रेस चलेगी इसके लिए तैयारी भी की जा रही है। बोर्ड की स्वीकृत पत्र का इंतजार किया जा रहा है। रेलवे सूत्रों का कहना है बाद में इसमें बदलाव हो सकता है। यह अंतिम निर्णय नहीं है।

Edited By: Jagran