संस, गोड्डा : जिले पर पड़ रही कड़ाके ठंड व शीतलहर से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। लोगों का कहना है जनवरी माह के दूसरे पखवारे में दिसंबर जैसी शीतलहर चल रही है, ऐसी स्थिति लंबे समय बाद लोगों ने देखी है। केविके के आटोमेटिक वेदर सेंटर से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह पारा और लुढ़क गया, लेकिन दिन चढ़ने के साथ ही धूप खिली तो मौसम कुछ सामान्य हुआ। न्यूनतम तापमान सात डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। अधिकतम तापमान 19 डिग्री सैल्सियस तक रहा। आटोमैटिक वेदर सेंटर से मौसम वैज्ञानिक रजनीश प्रसाद ने बताया कि न्यूनतम तापमान सात डिग्री सैल्सियस तक जा पहुंचा है। इसके कारण कड़ाके की ठंड व शीतलहरी से जनजीवन प्रभावित हुआ है। अभी अगले तीन दिनों के बाद ही ठंड व शीतलहर से राहत मिलने की संभावना है। इस दौरान पश्चिम विक्षोभ के कारण 22 व 23 जनवरी को बूंदाबांदी से लेकर हल्की बारिश की संभावना है। मौसम में बदलाव शुक्रवार से ही दिखा। दोपहर तक धूप खिली, लेकिन शाम को आकाश में बादल छाने लगे। 25 जनवरी से मौसम में सुधार दिख सकता है। शीतलहर से राहत मिलने का पूर्वानुमान किया गया है। इस बार दिसंबर से अधिक ठंड जनवरी में पड़ी है। रौतारा चौक के दुकानदार विनय साह ने कहा कि इस तरह की ठंड व शीतलहर अमूमन दिसंबर माह के अंतिम सप्ताह में पड़ती थी जो अब जनवरी माह के दूसरे पखवारे में पड़ रही है। कुहासे और धुंध के कारण रबी फसल को भारी नुकसान हुआ है। खासकर आलू की फसल में पाला का खतरा अधिक है। कई किसानों ने इसकी शिकायत भी की है।

Edited By: Jagran