संवाद सहयोगी, पोड़़ैयाहाट: पोड़ैयाहाट प्रखंड के प्रसिद्ध ऐतिहासिक व धार्मिक गर्म कुंड तालाब निमझर में शनिवार को काफी संख्या में श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाई। साथ ही तालाब के बगल स्थित निमहरिणी माई की पूजा अर्चना की। मरीच और नमक का भारो चढ़ाकर परिवार के निरोग,सुख शांति व समृद्धि रहने की कामना की। तालाब में स्नान को लेकर अहले सुबह से ही लोगों की भीड़ लगी रही। 12:00 बजे दिन तक स्नान का सिलसिला चलता रहा। हालांकि कोरोना को लेकर इस बार तलाब में आम सालों की अपेक्षा भीड़ कुछ कम थी। इसके बाद भी अंचलाधिकारी व थाना प्रभारी के निर्देश के बावजूदकाफी भीड़ उमड़ पड़ी। न तो शारीरिक दूरी का अनुपालन हो रहा था ना ही मास्क का प्रयोग दिख रहा था। शुक्रवार को अंचलाधिकारी मंटू इग्निशियस बास्की व थाना प्रभारी संतोष यादव निमझर तालाब पहुंचकर मेला नहीं लगाने का निर्देश दिया था। बावजूद शनिवार को 12:00 बजे के बाद काफी संख्या में दुकानदार एवं ग्राहक पहुंच गए और मेला में काफी भीड़ हो गई। जानकारी मिलने पर अंचलाधिकारी पुलिस बल के साथ वहां पहुंचे, लेकिन भीड़ को रोक नहीं पाए। थाना प्रभारी भी दल बल के साथ पहुंचे और लोगों को काफी समझाया, लेकिन भीड़ इतनी ज्यादा थी कि पुलिस की एक न चली।

------------

दबंगों ने दुकानदारों से वसूली रंगदारी: इस बार कोविड-19 को लेकर मेला का डाक नहीं हुआ था और ना ही मेला लगाने का कोई आदेश था। बावजूद दुकानदार आए हुए थे और काफी भीड़ थी जिसका फायदा आसपास के गांव के रंगबाजों ने अवैध रूप से पैसे की उगाही की। दुकानदारों से मनमाना पैसा वसूल रहे थे। कई दुकानदारों के साथ तो धक्का-मुक्की भी कर दी गई।

---------

जमकर चला अवैध जुआ का कारोबार: निमझर में प्रत्येक साल की भांति इस बार भी काफी संख्या में फोड़ लगा हुआ था जो एक तरह का जुआ है। मेला में फोड़ लगाना प्रतिबंधित है। 15 जगह फोड़ लगा हुआ था। काफी संख्या में लोग फोड़ में पैसा खेल रहे थे जिसमें बच्चों की भी संख्या काफी अधिक थी। हालांकि पुलिस के आते ही फोड़ वालों ने अपनी दुकान को समेट लिया।

Edited By: Jagran