संवाद सूत्र, ललमटिया: भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी बोआरीजोर अंचल कमेटी की ओर से शुक्रवार को देशव्यापी महंगाई और बढ़ती पेट्रोलियम एवं खाद्य पदार्थो की कीमतों के विरोध में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया गया। इस अवसर पर भाकपा नेता सह जिप सदस्य रामजी साह ने कहा कि देश में महंगाई, बेरोजागारी, भ्रष्टाचार को कम करने का दावा कर भाजपा सत्ता में आई लेकिन भाजपा काल में बीते सात वर्षों में देश की दुर्दशा हो गई है। अर्थ व्यवस्था गर्त पर चली गई है। भ्रष्टाचार चरम पर है वहीं पेट्रोलियम पदार्थो सहित खाद्य तेल की कीमतें रिकार्ड स्तर पर चली गई है। मोदी सरकार महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार को रोकने में पूरी तरह विफल रही है। कोरोना काल में देश में तीन काला कृषि बिल थोप दिया गया। इसका विरोध पूरे देश में हो रहा है लेकिन सरकार के कान में जूं तक नहीं रेंग रहा। किसान लगातार आंदोलन कर रहे हैं। कहा कि भाकपा किसानों के आंदोलन के साथ खड़ी है। इसका विरोध जारी रहेगा।

भाकपा की मांगें

धरना प्रदर्शन के बाद भाकपा का शिष्टमंडल ने प्रखंड विकास पदाधिकारी बोआरीजोर को स्मार पत्र सौंपा गया जिसमें किसान विरोधी अध्यादेश वापस लेने, बभनिया गांव के अग्नि पीड़ित परिवारों को मुआवजा उपलब्ध कराने, आदिम जनजाति परिवारों को आवास मुहैया कराने सहित लकड़ाकोल गांव में पानी, बिजली, सड़क की सुविधा उपलब्ध कराने की मांग की गई है। वहीं पेट्रोलियम और खाद्य तेल की कीमतों को नियंत्रित करने की मांग की गई। कार्यक्रम में भाकपा के राधा प्रसाद साह, सोनाराम मड़ैया, बाबूलाल किस्कू, लीलू पंडित सहित कई कार्यकर्ता शामिल थे।

Edited By: Jagran