जागरण संवाददाता, मेहरमा (गोड्डा)। मेहरमा प्रखंड की सुखाड़ी पंचायत में अंबेडकर आवास के लिए बीवी हैनिया ने पति को ही मृत बता दिया। तत्कालीन पंचायत सचिव अभय कुमार ने महिला के विधवा होने के कारण अंबेडकर आवास की स्वीकृति दे दी। महिला के खाते में 40 हजार रुपये का भुगतान भी कर दिया गया। बुधवार को यह मामला प्रकाश में आने के बाद वर्तमान पंचायत सचिव दीनानाथ ने प्रखंड विकास पदाधिकारी सुरेंद्र उरांव को पूरी जानकारी दी।

जानकारी के अनुसार, बीवी हैनिया की शादी 36-37 वर्ष पूर्व ठाकुरगंगटी प्रखंड के देवनचक निवासी मुजाहिर से हुई। उनके दो बच्चे भी हैं। 20 साल पूर्व मुजाहिर ने पत्नी हैनिया को छोड़ दिया। वह अपने दो बेटों के साथ मायके सुखाड़ी में रहने लगी। एक बेटा 35 और दूसरा करीब 28 साल का है। दोनों मजदूरी करते हैं। गत वर्ष महिला ने अंबेडकर आवास के लिए आवेदन दिया। उसमें अपने को विधवा बताया।

इस आधार पर उसके आवेदन को स्वीकृति दे दी गई। प्रथम किश्त की राशि (40 हजार) भी भेज दी गई। वह आवास बनाने की तैयारी कर रही थी। तब तक बुधवार को यह मामला खुल गया। प्रधानमंत्री ग्राम आवास के प्रखंड समवन्यक फहद रजा खान ने बताया कि महिला दस साल से विधवा पेंशन भी ले रही है। इसलिए उसे अंबेडकर आवास दिया गया।

अंचलाधिकारी खगेन महतो ने बताया कि पति यदि जीवित है तो उसे विधवा पेंशन नहीं मिल सकती है। किस परिस्थिति में उसे पेंशन दी गई है जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

मामला संज्ञान में आया है। पंचायत सचिव दीनानाथ व मुखिया जयप्रकाश साह को जांच कर राशि की रिकवरी कराने का निर्देश दिया है।

-सुरेंद्र उरांव, प्रखंड विकास पदाधिकारी, मेहरमा।

 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप