-नहाय- खाय के साथ ही छठ व्रत शुरू

जागरण टीम, गोड्डा : जिला मुख्यालय सहित सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में लोक अस्था व सूर्योपासना का महान पर्व छठ गुरुवार को नहाय- खाय के साथ शुरू हो गया। इस दिन परवैतियों ने बड़ी श्रद्धा से पूजा घरों में शुद्ध घी से कद्दू व भात बनाकर भगवान को अर्पित किया। इसके उपरांत आसपास के श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया। जबकि शुक्रवार को खरना के तहत घर में पूजन के उपरांत ही अ‌र्घ्य अर्पित किया जायेगा। वहीं शनिवार को अस्ताचलगामी एवं रविवार को उदीयमान सूर्य को अ‌र्घ्य अर्पित करने का विधान है। इसको लेकर पूरी नेम निष्ठा के साथ पर्व की तैयारी की जा रही है। हाट- बाजारों में पर्व की पूजन सामग्री की दुकानें कई दिनों से सजी है जहां श्रद्धालु अपनी जेब के अनुसार खरीददारी करने में जुटी हैं। छठ व्रत को लेकर नदी व तालाब के घाटों की सफाई व आकर्षक रूप देने की कवायद तेज हो गयी है। पदाधिकारियों द्वारा सफाई का जायजा लिया जा रहा है। महागामा : गुरुवार को एसडीपीओ ने क्षेत्र के कई घाटों पर जाकर सफाई का जायजा लिया। वहीं नगर निगम व संबंधित समितियों को अपने-अपने घाटों को अच्छी तरह से सुसज्जित करने का निर्देश दिया गया। उन्होंने बताया कि मुखिया को भी इसकी देखरेख करें। मौके पर उतरी दक्षिणी बसुवा पंचायत के मुखिया एवं मुखिया प्रतिनिधि सहित हेमंत, विकास कुमार, रहीम, अजय मरांडी सहित कई ग्रामीण उपस्थित थे। मेहरमा: सूर्योपासना का महापर्व छठ गुरुवार को नहाय खाय के के साथ शुरू हो गया। छठ व्रतियों को अपने-अपने घर के आंगन में गेहूं सुखाते देखा गया। कोई पक्षी इसे जूठा नहीं करे। इसपर नजर रखने को लेकर वर्धारी महिलाएं आंगन में चल अकादमी करते हुए इस पर विशेष नजर रखी गई। बताया जाता है कि बुधवार को गेहूं को जाता या आटा चक्की में पीस कर इसीसे छठ व्रत के लिए ठेकुआ बनाया जाएगा। पर्व को लेकर शहर से गांव तक श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ने लगी है। देश के अन्य शहरों में काम करने वाले नौकरी पेशा रिश्तेदार सभी गांव घर पहुंच चुके हैं। पर्व को लेकर चहूँ ओर भक्ति व उत्साह का माहौल है। चार दिनों तक चलने वाले पर्व के दूसरे दिन शुक्रवार को खरना शनिवार को अस्ताचलगामी एवं रविवार को उदीयमान भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य अर्पित किया जाएगा। पर्व को लेकर हाट बाजारों में पूजन सामग्री की दुकानों पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी।स्थानीय बाजार में नारियल 30-40रूपये पीस, डलिया 400 रुपये फीस, सूप डेढ -दो सौ रूपया पीस, डाब नींबू 40 रुपये पीस, ईख 10 पीस, सेव70-80.रुपये किलो, केला 40 रुपये दर्जन, सुथनी 300 रुपये किलो,आंवला तीन रुपये पीस,पानी फल 60 रुपये किलो, शकरकंद 60 प्रति किलो, नारंगी फल 70 -80 रुपए किलो बिका।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप