जागरण संवाददाता, गिरिडीह: शहर के अन्य मोहल्लों की तरह बस स्टैंड से सटे मछली मोहल्ला भुइंया टोली भी जल संकट से अछूता नहीं है। यहां भी भयंकर जल संकट से लोगों को प्रति दिन दो-चार होना पड़ रहा है। मोहल्ला में नगर निगम की जलापूíत पाइप लाइन तो पहुंची है, घर-घर में नल का कनेक्शन भी है, लेकिन जरूरत भर भी पानी नहीं मिल पाता। मोहल्ले में जलापूíत नहीं होने की शिकायत यहां के लोग कई बार नगर निगम से कर चुके हैं, लेकिन कोई पहल नहीं हुई। इससे लोगों में काफी रोष है।

सुबह होते ही सताने लगती पानी की चिता: जलापूíत नहीं होने के कारण लोगों को सुबह से ही पानी की चिता सताने लगती है। महिला-पुरुष, बच्चे सभी पानी की जुगाड़ में लग जाते हैं। स्कूल के पास एक चापाकल है, जहां पानी लेने के लिए हमेशा लोगों की भीड़ लगी रहती है, लेकिन वहां से सभी की जरूरत पूरी नहीं हो पाती है। ऐसी स्थिति में लोग जहां-तहां भटकने को विवश हो जाते हैं।

शिकायत के बाद भी नहीं हुई सुनवाई: मोहल्लेवासी जलापूíत नहीं होने की शिकायत कई बार नगर निगम से कर चुके हैं, लेकिन अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। पवन कुमार ने बताया कि नल से बहुत कम पानी आता है। वह भी मात्र 10-15 मिनट चलकर बंद हो जाता है। इससे पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल पाता है। शिकायत के बाद भी नगर निगम समस्या को गंभीरता से नहीं ले रहा है। मोहल्ले में एक चापाकल खराब है। इसकी भी सूचना नगर निगम को दी गई है, लेकिन चापाकल की मरम्मत नहीं कराई जा रही है। प्रदीप हाड़ी ने कहा कि काफी दूर से चापाकल और कुआं से पानी ढोकर लाना पड़ रहा है। रिया कुमारी, रेखा देवी, कुसुम देवी अदि ने कहा कि अभी पूरी गर्मी बाकी है। अगर व्यवस्था नहीं सुधरी तो आने वाले समय में परेशानी और बढ़ेगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस