संवाद सहयोगी, बिरनी (गिरिडीह): मैट्रिक की परीक्षा देनेवाले उत्क्रमित उच्च विद्यालय बाराडीह के बच्चों को पारा शिक्षक एडमिट कार्ड देने में आनाकानी कर रहा था। तब बच्चों व अन्य लोगों ने शुक्रवार को वहां जमकर हंगामा किया। हंगामे की जानकारी पाते ही मुखिया प्रतिनिधि बैजनाथ यादव व पंसस नागेश्वर यादव ने विद्यालय पहुंच इसकी जानकारी ली। इसमें पारा शिक्षक पर कई आरोप बच्चों ने लगाए। जनप्रतिनिधियों ने जब कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी तो शिक्षक ने अपनी गलती स्वीकार कर ली। उसने कहा कि अब वह ऐसी गलती नहीं करेगा। इसके बाद उसने बच्चों को उनका एडमिट कार्ड दे दिया।

नामांकन के लिए ढाई हजार, फॉर्म भरने के लिए लिये छह सौ रुपये: स्कूल के छात्र दीपक कुमार व पवन कुमार ने पारा शिक्षक भोला यादव पर एडमिट कार्ड देने के लिए तीन हजार रुपये मांगने का आरोप लगाया। कहा कि एडमिट कार्ड प्रधानाध्यापक ने उन्हें आठ दिन पहले ही दे दिया था। पारा शिक्षक ने घर उनके घर जाकर कहा कि उन लोगों की प्रैक्टिकल कॉपी जमा नहीं हुई है, जिस वजह से उनका एडमिट कार्ड वह वापस ले जा रहा है। जब तीन दिनों बाद उन्होंने अपना अपना एडमिट कार्ड मांगा तो उन्हें नहीं दिया गया। इसमें उनसे पैसे की मांग की गई। तब वे लोग हंगामा करने लगे। बच्चों ने कहा कि नामंकन में भी पारा शिक्षक ने ढाई हजार रुपये लिये हैं। वहीं परीक्षा फॉर्म भरने में प्रधानाध्यापक ने साढ़े छह सौ रुपये वसूले।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस