गिरिडीह : कोविड-19 टीकाकरण को लेकर जिले में आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। कोविड -19 वैक्सीनेशन का कार्य 16 जनवरी से जिले के पांच स्थानों पर प्रारंभ की जाएगी। इसे लेकर गुरुवार को नगर भवन में एक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। प्रशिक्षण में शामिल स्वास्थ्यकर्मियों को सिविल सर्जन डॉ. सिद्धार्थ सान्याल ने बताया कि वैक्सीन आने के साथ ही टीम अपने काम में जुट जाएगी। प्रशिक्षण के माध्यम से सुनियोजित तरीके से टीकाकरण के बारे में विशेष जानकारी दी गई है। इस क्रम में सभी वैक्सिनेशन टीम को उनके दायित्वों के बारे में विस्तार से समझाया गया तथा प्रशिक्षित भी किया। सिविल सर्जन ने बताया कि उपायुक्त के निर्देश पर जिले में वैक्सिनेशन को लेकर पांच स्थानों का चयन किया गया है। इसमें सदर अस्पताल, कल्याणडीह स्थित शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, गांडेय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बगोदर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व बिरनी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शामिल है। प्रशिक्षण कार्यक्रम में मुख्य रूप से डीपीएम प्रतिमा कुमारी, सहिया, एएनएम, स्वास्थ्यकर्मी समेत अन्य शामिल थे।

- टीका स्थल पर पांच-पांच कर्मी रहेंगे मौजूद : टीकाकरण स्थल पर पांच-पांच वैक्सीनेटर की तैनाती की गई। वैक्सीनेटर का कार्य प्रवेश द्वार पर तैनात रहते हुए लाभार्थियों के मोबाइल पर भेजे गए मैसेज एवं लाभार्थियों की सूची के आधार पर लाभार्थियों की पहचान करने का निर्देश दिया गया है। प्रवेश के पूर्व लाभार्थियों की हाथ धुलाई और सैनिटाइजेशन सुनिश्चित की जाने, लाभार्थियों को मास्क पहनने, शारीरिक दूरी का पालन करने, सांस्कृतिक संवेदनशीलता जैसे पर्दा व हिजाब आदि के प्रति सजग रहने, आवश्यकता पड़ने पर महिला सहकर्मी की मदद लेने, वैक्सीनेटर को एप्प में लाभार्थी के नाम की जांच करने, आधार कार्ड से लाभार्थियों का सत्यापन करने, पहचान पत्र से लाभार्थी का मिलाप करने का निर्देश दिया गया। साथ ही एक समय में एक ही लाभार्थी को टीका देने, सुरक्षित तरीके से टीकाकरण कर एप्प में रिपोर्ट दर्ज करने, टीकाकरण कचरे को सुरक्षित निस्तारण करने, प्रबंधन में सहयोग करने, चिकित्सा पदाधिकारी को सूचित करने, लाभार्थियों को मुख्य संदेश जैसे कोविड समुचित व्यवहार, टीकाकरण उपरांत किसी भी प्रकार की सहायता के लिए संपर्क सूत्र, द्वितीय डोज की अगली तिथि मैसेज के माध्यम से प्राप्त होने की जानकारी देने, वैक्सीनेटर निगरानी कक्ष में तैनात रहकर लाभार्थियों के बीच शारीरिक दूरी का पालन करवाने का भी निर्देश दिया गया। लाभार्थी को आधे घंटे तक प्रतीक्षा कक्ष में रखने, वैक्सीनेटर को प्रतीक्षा कक्ष, टीकाकरण कक्ष एवं निगरानी कक्ष से समन्वय स्थापित करते हुए कक्षों तक ले जाने एवं वापस लाने की जिम्मेदारी होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021