संवाद सहयोगी, गांडेय (गिरिडीह) : गिरीडीह-धनबाद मुख्य मार्ग स्थित ताराटांड़ के बडकीटांड़ मोड़ के समीप चार पहिया वाहन और आटो के बीच हुई टक्कर में गुरुवार को महिला समेत तीन लोगों की मौत हो गई। शुक्रवार को पोस्टमार्टम के बाद शवों को स्वजन मंडरो और चंपापुर गांव अपन साथ लेते गए। शवों के पहुंचते ही पूरे गांव में मातम पसर गया। मंडरो गांव में मुकुंद महतो और उनकी पत्नी अनिता देवी के शव देखकर स्वजन दहाड़ मारकर रोने लगे। मृतक की बूढ़ी मां अपने बेटे का शव देखकर अपनी आंखों पर विश्वास नहीं कर पा रही थी। स्वजनों के चीत्कार से माहौल गमगीन हो गया। पति-पत्नी को एक ही चिता में लेटाकर उसके बड़े बेटे वीरेंद्र कुमार ने मुखाग्नि दी।

इधर, चंपापुर गांव निवासी मृतक मो. मुख्तार का शव भी घर पहुंचते ही स्वजन चीत्कार मारने लगे। शाम को गांव में शव को सुपुर्द ए खाक कर दिया गया। बता दें कि मृतक मो मुख्तार बहुत ही गरीब था। वह लगभग एक माह पूर्व लकड़ी के आरा मिल में मजदूरी करने ओड़िशा गया था। परिवार में चार बेटा और पांच बेटियां हैं। बड़ा बेटा हैदराबाद में काम करता है। बेटे के इंतजार में मुख्तार के शव को रखा गया। उसके पहुंचते ही शाम को सुपुर्द ए खाक किया गया।

Edited By: Gautam Ojha

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट