जागरण संवाददाता, गिरिडीह: बगोदर थाना क्षेत्र के अटका बाजार निवासी आभूषण व्यवसायी यमुना स्वर्णकार को गोली मारकर जख्मी करने वाले अपराधियों को गिरफ्तार करने में अबतक पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है। घटना के 25 दिन बाद अब पुलिस निश्चिंत है और अपराधी चांदी काट रह हैं।

पुलिस ने दावा किया है कि इस घटना को उमेश के एसपीएम नामक गिरोह ने अंजाम दिया है। गिरोह के बारे में महत्वपूर्ण सुराग पुलिस को हाथ लग चुका है। पुलिस संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर अपराधियों को दबोचने में लगी है, लेकिन अब तक कार्रवाई और नतीजा दोनों शून्य है। मामले में अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं होने से पीड़ित व परिजन के अलाव गांव के लोग भी दहशत में हैं।

घर का गेट लगा रहे थे व्यवसायी: अपराधियों ने बीते 15 अगस्त की रात गोली मारकर व्यवसायी को जख्मी कर दिया था। जिस वक्त घटना घटी, उस वक्त व्यवसायी घर के गेट को बंद कर रहे थे। हथियारों से लैस अपराधी एक चारपहिया वाहन और बाइक से आ धमके और गोलीबारी की। इसके पहले उन्होंने तिजोरी की चाबी भी ले ली थी।

अब भी कई बिंदुओं पर चल रही जांच: सरिया-बगोदर के एसडीपीओ विनोद कुमार महतो ने कहा कि घटना को अंजाम देने वाले अपराधियों के बारे में अब तक कोई महत्वपूर्ण सुराग हाथ नहीं लग सका है। अब भी कई ¨बदुओं पर जांच की जा रही है। घटना में इस्तेमाल वाहन की भी सुराग नहीं मिला है। हो सकता है लूटना नहीं, बल्कि दहशत फैलाना अपराधियों का मकसद रहा हो।

Posted By: Jagran