गिरिडीह : कोरोना संक्रमण से ग्रसित होने के खतरे से बचाव को लेकर सतर्कता बरतते हुए स्वाब जांच कराने में लोग जुटे हैं। प्रतिदिन ढाई हजार से लेकर तीन हजार लोगों के स्वाब की जांच अलग-अलग माध्यमों से की जा रही है। इस क्रम में जिले के अलग-अलग केंद्रों के माध्यम से 3179 लोगों के स्वाब की जांच की गई। इसके तहत 1045 लोगों की आरटीपीआर जांच की रिपोर्ट उपलब्ध कराई गई। इसमें किसी की भी रिपोर्ट पाजिटिव नहीं आई है। वहीं 253 लोगों का स्वाब संग्रह करते हुए ट्रूनेट विधि से जांच की गई। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आई, जबकि 1881 लोगों की एंटीजन किट से अलग-अलग केंद्रों में जांच हुई। सभी की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई। इसके अलावा जिले के अलग-अलग केंद्रों पर 934 लोगों का स्वाब आरटीपीसीआर जांच के लिए संग्रह किया गया तथा जांच में भेजे जाने से शेष बच गए स्वाबों को मिलाकर 1088 लोगों का स्वाब जांच के लिए धनबाद भेजा गया।

कोरोना से बचाव के लिए जिले में 7817 लोगों ने ली वैक्सीन : कोरोना से बचाव को वैक्सीनेशन ही फिलहाल कारगर व्यवस्था है। इसी व्यवस्था का लाभ लेते हुए लोग कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जिले के 14 वैक्सीनेशन सेंटरों पर 7817 लोगों ने कोविशील्ड व कोवैक्सीन की पहली व दूसरी डोज ली। इसके तहत 18 प्लस से 44 वर्ष के 5140 लोगों ने पहली जबकि 533 लोगों ने दूसरी डोज ली। वहीं 45 प्लस से 59 वर्ष के 990 लोगों ने पहली व 814 लोगों ने दूसरी डोज लेकर अपने आप को कोरोना से सुरक्षित किया। जबकि 60 प्लस आयु वर्ग के 106 लोगों ने पहली व 234 लोगों ने दूसरी डोज लेकर दूसरों को भी वैक्सीन लेने को प्रेरित किया। वहीं इसमें 30 लोगों ने कोवैक्सीन की पहली व 652 लोगों ने दूसरी डोज ली। सबसे ज्यादा 1165 लोग राजधनवार स्थित वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचे और वैक्सीन ली। वहीं मिर्जागंज में 1035 लोग वैक्सीनेशन कराकर दूसरे व शहरी क्षेत्र स्थित वैक्सीनेशन सेंटर पर 923 लोग वैक्सीनेशन कराकर तीसरे स्थान पर रहे। इसके अलावा बगोदर वैक्सीनेशन केंद्र में 513, सरिया में 518, बेंगाबाद में 156, बिरनी में 738, देवरी में 383, डुमरी में 603, गांडेय में 501, गावां में 150, चैताडीह में 673, पीरटांड़ में 354 व तिसरी में 105 लोगों ने वैक्सीन ली।

Edited By: Jagran