गिरिडीह : युवा पीढ़ी को संस्कारवान बनाना है। युवा पीढ़ी संस्कार भूलती जा रही है। बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ संस्कार भी देना जरूरी है, तभी वे संस्कारवान बनेंगे और देश अच्छा बनेगा। ये बातें परम पूज्य राष्ट्र संत गणाचार्य जी 108 विराट सागर महाराज ने बुधवार को पांडेयडीह स्थित प्रकाश पुंज पब्लिक स्कूल में कही। महाराज सैकड़ों जैन साधु एवं साध्वी के साथ स्कूल पहुंचे थे, जहां बच्चों एवं शिक्षक-शिक्षिकाओं ने उनका भव्य स्वागत किया।

उन्होंने कहा कि आज लोग अपने माता-पिता और गुरुजनों का सम्मान नहीं करते हैं, जबकि इन सभी को मान-सम्मान देना आवश्यक है। ऐसा तभी संभव होगा जब बच्चों को अच्छी शिक्षा के साथ-साथ संस्कारों की भी सीख दी जाएगी। उन्होंने विद्यालय और बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए मंगल कामना की। यहां महाराज अपने दल के साथ गिरिडीह जैन मंदिर के लिए प्रस्थान कर गए। कार्यक्रम में जैन समाज से अशोक जैन, आशीष जैन आदि ने बढ़ चढ़कर भाग लिया।

मौके पर प्राचार्य श्याम सुंदर प्रसाद वर्मा, लीलावती वर्मा, पूर्णिमा महतो, जयवंती किस्कू, मेनका महतो, संजय सिन्हा, सुनीता दत्ता, ज्योति सिन्हा, प्रमोद कुमार, प्रेमजीत कौर, सुरभि कुमारी आदि शिक्षक-शिक्षिकाएं उपस्थित थे।

जैन मंदिर में भी हुआ स्वागत :

स्कूल के बाद महाराज अपने दल के साथ जैन मंदिर पहुंचे, जहां जैन समाज के लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया। महाराज ने समाज के लोगों को संबोधित किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप