गिरिडीह: विधानसभा चुनाव में भितरघात से हुई पार्टी प्रत्याशियों की हार पर  कार्यकर्ताओं ने बैठक में जोरदार हंगामा किया। भाजपा की बैठक गुरुवार को शहर के बोड़ो में हुई। बतौर पर्यवेक्षक हटिया के विधायक नवीन जायसवाल मौजूद थे। जैसे ही बैठक शुरू हुई पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं ने विधानसभा चुनाव में भितरघात का मुद्दा उठाया। कार्यकर्ता निर्भय सिंह ने कहा कि जिले के सभी विधानसभा क्षेत्र में पार्टी के सक्रिय लोगों ने भितरघात किया जिस कारण गिरिडीह, गांडेय, बगोदर व धनवार सीट पर प्रत्याशियों की हार हुई।

जिलेभर से आए कार्यकर्ताओं ने पर्यवेक्षक को आवेदन देकर वैसे  लोगों को भाजपा से निष्कासित करने की मांग की। इसपर बैठक में हंगामा हो गया। हंगामा काफी देर तक चलता रहा। जिलाध्यक्ष समेत अन्य के रोकने पर भी कार्यकर्ता नहीं माने। पर्यवेक्षक के समझाने-बुझाने पर ही कार्यकर्ता माने। पर्यवेक्षक कार्यकर्ताओं को समझाने के लिए खुद खड़े होकर माइक से लगातार शांत रहने की उनसे अपील करते रहे। पर्यवेक्षक ने साफ कह दिया कि पार्टी के विरुद्ध चुनाव में कार्य करनेवाले कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को चिह्नित कर कार्रवाई की जाएगी। पार्टी के विरुद्ध काम करनेवालों के खिलाफ कार्यकर्ताओं ने आक्रोश जताया है। ऐसे लोगों को जिले से लेकर बूथ स्तर पर कोई भी पद नहीं दिया जाएगा।

बैठक में जिला सह प्रभारी नारायण चन्द्र भौमिक, पूर्व सांसद रवींद्र कुमार पांडेय, पूर्व विधायक निर्भय कुमार शाहाबादी, जिलाध्यक्ष सुनील अग्रवाल, उप मेयर प्रकाश सेठ, लक्ष्मण सिंह, प्रदीप साहू, बाबुल प्रसाद गुप्ता, प्रशांत जायसवाल, विनय शर्मा, यदुनंदन पाठक, महादेव दूबे, संजू सिंह, देवराज, सुखदेव साहू आदि मौजूद थे।

संगठन को मजबूत करने पर बल: चुनाव में भाजपा को मिली करारी शिकस्त के बाद कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिए पर्यवेक्षक और सह प्रभारी ने उन्हें कई टिप्स दिए। कहा कि चुनाव में मिली हार से कार्यकर्ता निराश नहीं हों। जिला सदस्यता को लेकर हुई  बैठक में संगठन की मजबूती पर चर्चा की गई। कहा गया कि सामान्य कार्यकर्ताओं को भी पार्टी के खिलाफ चुनाव में काम करनेवालों के खिलाफ रिपोर्ट देने को कहा गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस