गिरिडीह : एमपीएल ने कोयला उठाव भले ही गिरिडीह कोलियरी से शुरू कर दिया है लेकिन एमपीएल के खिलाफ आंदोलन जारी है। एमपीएल के कोयला उठाव में किसी तरह का अड़चन नहीं पैदा हो, इसके लिए बुधवार को एसडीपीओ अनिल कुमार सिंह, परियोजना पदाधिकारी ओपनकास्ट डंप यार्ड पहुंच कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। एसडीपीओ ने परियोजना पदाधिकारी को कई महत्वपूर्ण निर्देश देने के साथ निष्पक्ष रूप से हरेक गतिविधियों की पूरी वीडियो रिकार्डिग कराने को कहा, यही निर्देश एमपीएल के लिए कोयला उठाने वाले लिफ्टर को भी दिया गया। एसडीपीओ के निर्देश के बाद वहां वीडियो रिकार्डिंग शुरू कर दी गई है। उधर से आम ग्रामीण व मजदूरों के आवागमन पर रोक लगाने का भी निर्देश दिया गया है। गिरिडीह कोलियरी के ओपनकास्ट कांटा पर 14 दिनों से गिरिडीह कोलियरी बचाओ संघर्ष मंच का धरना जारी है। ट्रक ओनर एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जिस बात का डर एमपीएल को लेकर था वही हो रहा है। लोकल सेल बंद हो गया है और सिर्फ एमपीएल का कोयला दिया जा रहा है। रोड सेल का आफर अगस्त में भी नहीं दिया गया और सितंबर में आज 15 दिन बीत जाने के बाद भी आफर नहीं मिला है। सचिव कमल चंद साहू ने कहा कि माइंस से जो भी खनिज वाहनों पर लोड होता है उस वाहन को सरकारी प्रतिष्ठान में ले जाने के लिए जीपीएस का होना अनिवार्य है। फिर गिरिडीह कोलियरी में एमपीएल का कोयला जिन गाड़ियों से जा रहा है उसमें जीपीएस नहीं लगा है, फिर उससे कैसे कोयला जा रहा है इसकी जांच होनी चाहिए। राजेंद्र प्रसाद राय ने कहा कि यही कोयला कल ट्रक में जब लोड होगा तो इस कदर चार हजार रूपये प्रति टन हो जाएगा क्योंकि इसका ग्रेड जी सेवेन हो जाएगा। आज एमपीएल लोड कर रहा है तो ग्रेड जेड 10 है जिसकी दर 12 सौ रुपये टन है। मौके पर मो. असलम, मो. जहांगीर, अरुण यादव, अजय यादव, संतोष यादव, शंकर यादव, द्वारका मंडल, रोशन सिंह, सूरज सिंह, प्यारे खान, पिटू राम, पिटू साहू, सुधीर राणा आदि शामिल थे।

------------------------

झामुमो-भाजपा के खिलाफ माले पहुंची गांव :

भाकपा माले ने ओपन कास्ट में लोडिग मजदूरी के अधिकार को लेकर गांव-गांव में जन अभियान की शुरुआत कर दी। ओपन कास्ट से सटी बदगुंदा खुर्द पंचायत से अभियान की शुरुआत करते हुए पार्टी नेता राजेश कुमार यादव व राजेश सिन्हा ने कहा कि स्थानीय लोडिग मजदूरों को बरगलाया गया है। एमपीएल की दलाली करने वालों ने गरीबों को गरीबों से गिराने की नाकाम कोशिश भी की। असल में एमपीएल को कोयला भेजने के पीछे गिरिडीह के भाजपा, झामुमो तथा आजसू से जुड़े कई नेता तथा तमाम कोयला माफिया तत्व शामिल हैं। जनता सब कुछ देख रही है। इसका माकूल जवाब अवश्य ही दिया जाएगा। मौके पर मंगल किस्कू, लोगन सोरेन, देवीलाल हांसदा आदि मुख्य रूप से मौजूद थे।

Edited By: Jagran