गिरिडीह : साइबर अपराध में संलिप्त अपराधियों ने कोरोना के माध्यम से ठगी का नया रास्ता बनाया है। साइबर अपराध गिरोह के सदस्यों ने कोरोना वायरस से बचाव को लेकर लिक व वेब पर पेज डेवलप किया है। इसका इजाद कर लोगों को कोरोना से बचाव का झांसा देकर ठगी करने का नया तरीका चुना है। इस संबंध में साइबर थाने में पदस्थापित इंस्पेक्टर सुरेश कुमार मंडल ने बताया कि साइबर ठगी के धंधे में संलिप्त गिरोह के लोगों ने कोरोना नाम से लिक बना लिया है, जिसके माध्यम से कोरोना से बचाव को लेकर उपचार, जांच, दवा आदि की फर्जी जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है। लोगों को सजग रहते हुए ऐसे लिकों के उपयोग से बचने की जरूरत है। इस तरह के लिक को मोबाइल पर साइबर अपराधी मैसेज के माध्यम से भेज रहे हैं और लिक को ओपेन करने कह रहे हैं, लेकिन अपनी सतर्कता व जागरूकता के माध्यम से ऐसे मैसेजों को इग्नोर करने की जरूरत है। इस तरह के लिक अगर मोबाइल पर कहीं से आता है तो उसे टच करने के बजाए नजर अंदाज कर दें। अन्यथा थोड़ी सी चूक से साइबर ठगी के शिकार हो सकते हैं। कई जगहों से इस तरह के लिक से संबंधित मामले संज्ञान में आ चुके हैं जिसे लेकर साइबर पुलिस पूरी तरह से अलर्ट है और लोगों को भी अलर्ट रहने की सलाह दी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस