गिरिडीह : सरकारी योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने में संस्थाओं की अहम भूमिका होती है। स्वयंसेवी संस्थाओं की पकड़ जमीनी स्तर पर होती है। ये बातें नाबार्ड के डीडीएम अमित कुमार गौतम ने मंगलवार को एलडीएम कार्यालय में आयोजित एनजीओ कार्यशाला में कही। नाबार्ड की ओर से आयोजित कार्यशाला में जिले की कई स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया, जिन्हें डीडीएम ने नाबार्ड के कार्यों, नाबार्ड द्वारा संचालित योजनाओं आदि की विस्तार से जानकारी दी। कृषि व गैर कृषि क्षेत्र, वित्तीय समावेशन, माइक्रो क्रेडिट योजना, जलवायु परिवर्तन, नैबफिन्स, नैबकॉन्स नैब, समृद्धि सहित नाबार्ड द्वारा संचालित कई योजनाओं के बारे में बताया। साथ ही संस्थाओं से समुदाय को इन योजनाओं का लाभ दिलाने की बात कही। आरसेटी के निदेशक मनीष कुमार ने कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम की जानकारी दी। बैंक ऑफ इंडिया के एरिया मैनेजर नीतेश कुमार ने  संस्थाओं से किसानों को केसीसी योजना का लाभ दिलाने को कहा। मौके पर अभिव्यक्ति फाउंडेशन के रूपम राय, अंबेडकर सामाजिक संस्थान के रामदेव विश्वबंधु, आइडिया के मुकेश कुमार, रूद्रा फाउंडेशन के सैयद सबिह अशरफ़, सपोर्ट के राजेश बोस, लक्ष्य के विजय चौरसिया, मीरा सेवा सदन के निर्मल प्रसाद महतो, प्रगति केन्द्र के दशरथ प्रसाद, प्रयास फाउंडेशन के रामाशंकर गुप्ता, इस्माइल सेवा कल्याण परिषद के इस्माईल अंसारी, आशा किरण के कमलेश कुमार, ग्रामीण विकास समिति के बासुदेव पंडित, पीएआरडीएस के पवन मिश्रा आदि उपस्थित थे।

--------------------

ज्ञान ज्योति

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस