बेंगाबाद (गिरिडीह) : कर्ज के बोझ तले दबे युवक ने शनिवार को ससुराल में आत्महत्या करने का प्रयास किया। जानकारी होने के बाद परिजनों ने आनन-फानन में इलाज के लिए उसे बेंगाबाद के एक निजी क्लिनिक में भर्ती कराया है। मामला महुआर पंचायत के एक गांव से संबंधित है। जमुआ प्रखंड के एक युवक की शादी दस साल पूर्व महुआर पंचायत के एक गांव में हुई थी। युवक ने पत्नी के नाम महिला समूह से कर्ज ले रखा था जिसकी किश्त वह नहीं दे रहा था। इसी बात को लेकर पति-पत्नी के बीच विवाद चल रहा था। युवक ने पत्नी को मायके लाकर लगभग बीस दिन पूर्व रख दिया था। पत्नी पति को कहीं काम कर कर्ज का बोझ कम करने को कह रही थी। कहती थी कि जब तक कर्ज का बोझ कम नहीं होगा वह अपनी ससुराल नहीं जाएगी। युवक पर कर्ज की किश्त देने के लिए महिला समूह की ओर से दबाव दिया जा रहा था। युवक ससुराल आकर पत्नी को अपने घर ले जाने की जिद कर रहा था। कर्ज चुकता करने के तनाव में और ससुरालवालों पर दबाव बनाने के लिए उसने शनिवार को कीटनाशक का सेवन कर लिया और ससुराल में इसकी जानकारी दे दी। पत्नी ने बताया कि उनके तीन छोटे बच्चे हैं। बच्चों की पढ़ाई-लिखाई बाधित हो रही है इसलिए उन्हें कहीं कोई काम करने को वह कह रही थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस