गिरिडीह : सदर अस्पताल की व्यवस्था को दुरुस्त बनाने व जिलेवासियों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने को ले विधायक सुदिव्य कुमार सोनू की अध्यक्षता में रोगी कल्याण समिति की बैठक की गई। यह बैठक शुक्रवार को सिविल सर्जन कार्यालय में हुई। शहरी क्षेत्र के लोगों को चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर मोहल्ला क्लीनिक को सदर अस्पताल से थोड़ी दूर हटकर चालू कराने पर जोर दिया गया।

जिले में मेडिकल कॉलेज व अस्पताल खोलने व चैताडीह स्थित मातृत्व शिशु अस्पताल को पीपीपी मोड़ पर संचालित करने का प्रस्ताव लेने का निर्णय लिया गया। जीटी रोड पर डुमरी से बगोदर के बीच ट्रामा सेंटर की स्थापना करने को लेकर सरकार से बात करने पर जोर दिया गया। एएनएम स्कूल के भवन में बिजली की व्यवस्था करने को विभागीय अधिकारी से बात करने का भी निर्णय लिया गया ताकि वहां की छात्रावास में रहकर एएनएम की पढाई की जा सके।

एएनएम स्कूल में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस अधीक्षक से बात करने का निर्णय लिया गया। बैठक में चैताडीह अस्पताल परिसर में स्थित वातानुकूलित शवगृह में अज्ञात शवों को रखने के लिए बिजली व्यवस्था दुरूस्त करने, सदर अस्पताल में लगी सोलर सिस्टम की तकनीकि खराबी को दूर करने, अस्पताल के कंडम भवनों के स्थान पर नये भवन की निर्माण कराने, हरलाडीह स्थित पीएचसी के नए भवन को हैंडओवर कराकर उसमें अस्पताल का संचालन कराने, आउटसोर्सिंग के तहत कार्यरत कर्मियों को बकाया मानदेय का भुगतान कराने के अलावा अन्य बातों पर चर्चा की गई। विधायक ने कहा कि अस्पताल की व्यवस्था बेहतर कराना प्राथमिकता है। इस अस्पताल के साथ-साथ जिले के अन्य क्षेत्रों में स्थित रेफरल, सामुदायिक व अन्य अस्पतालों को संसाधन युक्त बनाया जाएगा ताकि शहर से लेकर गांव तक के लोगों को बेहतर सुविधा उपलब्ध हो सके।

बैठक में सिविल सर्जन डॉ अवधेश कुमार सिन्हा, जिला आरसीएच पदाधिकारी डॉ सिद्धार्थ सान्याल, डॉ एस हेम्ब्रम, डॉ गणेश, डॉ एलएन दास, डॉ कालीदास मुर्मू, डॉ पीके साहू, डीपीएम प्रतिमा कुमारी माग्रेट मुर्मू, सुमित कुमार गुप्ता, रंधीर प्रसाद, प्रमिला मेहरा, नीलम कुमारी, अनिता देवी आदि थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस