गिरिडीह: अहिल्यापुर पुलिस ने गश्ती के क्रम में मिली गुप्त सूचना के आधार पर त्वरित कार्रवाई करते हुए एक साइबर आरोपित को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। गिरफ्तार आरोपित 21 वर्षीय रमेश मंडल धनबाद जिले के टुंडी थाना क्षेत्र अंतर्गत संथालडीह गांव के बिसनाटांड़ टोला का रहनेवाला है।

पुलिस की गिरफ्त में आने से बचते हुए गांडेय थाना क्षेत्र के रकसकुट्टो निवासी गोविद मंडल अपनी बाइक मौके पर छोड़कर फरार हो गया। दोनों में मामा व भांजे का रिश्ता है। दोनों एकसाथ रहकर साइबर अपराध की घटना को पेटीएम अधिकारी बनकर अंजाम देते थे। अहिल्यापुर पुलिस ने गिरफ्तार आरोपित को साइबर पुलिस के हवाले कर दिया।अहिल्यापुर थाने के पुलिस अवर निरीक्षक प्रदीप कुमार महतो के आवेदन पर साइबर थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई।

प्राथमिकी दर्ज करने के बाद गिरफ्तार आरोपित रमेश मंडल को सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी के समक्ष पेश किया गया जहां से न्यायालय के आदेश पर उसे जेल भेज दिया गया। इस छापेमारी अभियान में अहिल्यापुर थाने के अन्य पुलिस अधिकारी व जवान शामिल थे।

पुलिस ने किया इन सामान बरामद : सघन जांच अभियान के क्रम में गिरफ्तार आरोपित के पास से पुलिस ने साइबर अपराध में उपयोग किए जानेवाले कई सामानों को बरामद किया है। बरामद सामानों में ओप्पो कंपनी की टच स्क्रीन मोबाइल, पेटीएम की विवरणी, आधार कार्ड, पैन कार्ड, सेंट्रल मॉल का कार्ड, बजाज कंपनी की बाइक व होंडा साइन बाइक शामिल है।

दोनों जा चुके हैं पहले भी जेल: साइबर अपराध के मामले में गिरफ्तार आरोपित रमेश मंडल व फरार गोविद मंडल पूर्व में भी आईटी एक्ट के तहत जेल जा चुके हैं। रमेश साइबर अपराध के मामले में टुंडी थाना के एक मामले में जबकि उसका मामा गोविद मंडल अहिल्यापुर थाना के साइबर अपराध के एक मामले में जेल से हाल ही में जमानत पर बाहर आया है। जेल से बाहर आने के बाद से दोनों फिर से इस अपराध को अंजाम देने में लगे थे।

गुप्त सूचना पर पुलिस के हाथ आया रमेश: थाने के पुअनि प्रदीप कुमार महतो अहिल्यापुर-गांडेय मुख्य मार्ग पर गश्ती अभियान में निकले थे। इसी क्रम में वे पुलिस बल के साथ अहिल्यापुर बाजार के आगे थे। इसी क्रम में गुप्त सूचना मिली कि गांडेय की ओर से दो बाइक में दो साइबर अपराधी अहिल्यापुर की ओर आ रहे हैं। इसी सूचना पर त्वरित कार्रवाई करते हुए दुलाडीह मोड़ के पास वाहन जांच अभियान चलाया जा रहा था। कुछ देर बाद गांडेय की ओर से दो अलग-अलग बाइक पर सवार होकर मामा-भांजा आ रहे थे। दुलाडीह मोड़ के पास पुलिस पर नजर पड़ते ही बाइक को घुमाकर वे भागने लगे। जवानों ने पीछा करते हुए खदेड़कर बाइक समेत रमेश को दबोच लिया लेकिन गोविद अपनी बाइक को वहीं छोड़कर फरार हो गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस