गिरिडीह : पीएम किसान योजना का लाभ लेने वाले जिले के सभी किसानों को केसीसी (किसान क्रेडिट कार्ड) से आच्छादित करना है। इसके लिए एक पखवारा 8-23 फरवरी तक सघन अभियान चलाया जाएगा। इस बीच सभी किसानों को केसीसी मुहैया करा देना है। इसके लिए बैंकों को मिशन मोड में काम करने का निर्देश दिया गया है। भारत सरकार के कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्रालय के निर्देशानुसार किसानों को यह लाभ देना है। ये बातें उप विकास आयुक्त मुकुंद दास ने सोमवार देर शाम को कही।

बताया कि सभी बैंक शाखा प्रबंधक उन किसानों को चिह्नित करेंगे, जिनका पीएम किसान खाता उनकी शाखा में है और उन्हें केसीसी ऋण प्राप्त नहीं हुआ है। ऐसे किसानों के लिए एक पन्ने का सरल आवेदन पत्र तैयार किया गया है, जिसमें भू स्वामित्व और फसल संबंधी विवरण देकर बैंक शाखा से केसीसी ऋण लिया जा सकता है। ऐसे किसानों की सूची कृषि विभाग के साथ साझा की जाएगी। सभी बैंकों को उक्त अवधि में विशेष कैंप आयोजित कर अधिकतम 14 दिनों के अंदर केसीसी स्वीकृत करने का निर्देश दिया गया है। कृषि और अन्य संबद्ध विभाग (पशु पालन, मत्स्य, पंचायती राज, ग्रामीण विकास, जेएसएलपीएस, बैंक सखी आदि) के माध्यम से अभियान को लेकर प्रचार-प्रसार किया जाएगा।

पशु और मत्स्य पालन के लिए भी मिलेगा लाभ

डीडीएम एके गौतम ने बताया कि किसानों को अब पशु और मत्स्य पालन के लिए भी केसीसी ऋण मुहैया कराया जाएगा। किसान इसके लिए भी केसीसी लिमिट हेतु शाखा में आवेदन दे सकते हैं।

1.6 लाख के लिए गारंटी की आवश्यकता नहीं

बताया गया कि तीन लाख रुपये तक के केसीसी ऋण के लिए प्रोसेसिग, डाक्यूमेंटेशन, इंस्पेक्शन, सर्विस चार्ज समेत किसी भी प्रकार का शुल्क देय नहीं है। भारत सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक के निर्देशानुसार किसानों को 1 लाख 60 हजार रुपये तक ऋण के लिए किसी प्रकार की प्रतिभूति या गारंटी जमा करने की आवश्यकता नहीं है।

1.25 किसानों को केसीसी देने का लक्ष्य : जिले के 1.25 लाख किसानों को केसीसी ऋण देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिनमें काफी किसानों को इसका लाभ दिया जा चुका है। शेष किसानों को 15 दिनों के अंदर इसका लाभ देना है। मौके पर जिला कृषि पदाधिकारी डीके पांडेय, एलडीएम रवींद्र कुमार सिंह आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस