बेंगाबाद (गिरिडीह) : खंडोली वाटर प्लांट में कार्यरत मजदूरों ने अपनी लंबित मांगों को लेकर रविवार को घंटों कार्य बहिष्कार किया। सूचना पर नगर आयुक्त अनिल कुमार राय खंडोली पहुंचे और ठेकेदार की उपस्थिति में मजदूरों के साथ वार्ता की। उनकी मांगों पर सकारात्मक पहल के आश्वासन के बाद मजदूरों ने आंदोलन वापस ले लिया। तब तीन बजे के बाद पानी की सप्लाई चालू कर दी गई।

एक सप्ताह से मजदूर काला बिल्ला लगाकर कर रहे थे विरोध: खंडोली वाटर प्लांट में कार्यरत मजदूर मो. सरफराज, मो. सोहेल, शमीम अंसारी, एकबाल, याकूब अंसारी, मनोज राम, लखन रजक आदि ने बताया कि वे लोग दस वर्षो से यहां कार्यरत हैं। ठेकेदार ने सालाना दो सौ रूपये मासिक मानदेय में बढ़ोतरी करने के अलावे अन्य सुविधाएं देने की बात की थी लेकिन वह मनमाने ढंग से मानदेय का भुगतान कर रहे हैं। समान कार्य के लिए समान वेतन नहीं दिया जा रहा है न ही उक्त बढ़ी राशि ही दी जा रही है। ठेकेदार श्रम विभाग के गाईड लाईन के विपरीत काम करते हुए मनमाना रवैया अपना रहे हैं। बताया कि लंबित मांगों को लेकर वे विभागीय अधिकारियों को पत्र लिखकर आवश्यक पहल की मांग की गई थी। काला बिल्ला लगाकर उनके रवैए का विरोध किया जा रहा था। इसके बावजूद कोई पहल नहीं की गई। शनिवार को ठेकेदार के कर्मियों के साथ वार्ता में मजदूरों की मांगें पूरी करने का सकारात्मक आश्वासन नहीं दिया गया। अंत में मजदूरों ने कार्य बहिष्कार करने का निर्णय लिया। आश्वासन के अनुरूप भुगतान नहीं होने पर आगे भी करेंगे आंदोलन: मजदूरों ने बताया कि खंडोली न्यू और ओल्ड वाटर प्लांट के अलावे चैताडीह व महादेव तालाब में कुल 85 मजदूर कार्यरत हैं। उनलोगों को मिले आश्वासन के अनुरूप भुगतान नहीं होने पर सभी मजदूर एकजुट होकर आगे भी आंदोलन करेंगे। बताया कि उनलोगों का बारह सौ रूपये का मानदेय बढ़ोतरी के अलावे दो सो रूपये सालाना मासिक बढ़ोतरी का आश्वासन मिला है। मौके पर मुखिया पति पांचू मियां, खुर्शीद अनवर हादी के अलावे अन्य लोग मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस