गिरिडीह : सड़कों के किनारे लगने वाली दुकानों के कारण उत्पन्न जाम की समस्या से जल्द ही निजात मिलने वाली है। इसके लिए नगर निगम की ओर से पहल की जा रही है। इसके तहत शहर में चार स्थानों पर करोड़ों रुपये की लागत से वेंडिग जोन बनाने की प्रकिया विभाग के स्तर से चल रही है। शीघ्र ही इसका फलाफल भी देखने को मिलेगा। इससे जहां फुटपाथ दुकानदारों को स्थायी ठौर मिलेगा, वहीं शहर की सड़कें अतिक्रमणमुक्त भी होंगी।

इन स्थानों का हुआ चयन :

वेंडिग जोन बनाने के लिए हुट्टी बाजार, मकतपुर, बाभनटोली और बस पड़ाव रोड में अग्निशमन कार्यालय के सामने वाले स्थान का चयन किया गया है। इन स्थानों पर वेंडिग जोन बनाकर फुटपाथ दुकानदारों को आवंटित किया जाएगा, जहां बैठकर वे अपनी-अपनी दुकान लगाएंगे।

दो का हुआ चुका टेंडर :

बताया गया कि बाभनटोली और बस पड़ाव रोड में अग्निशमन कार्यालय के सामने वेंडिग जोन का निर्माण को ले टेंडर भी हो चुका है। इसकी लागत क्रमश: 1.2 करोड़ और 62 लाख रुपये है। इसके अलावा दो अन्य स्थानों पर निर्माण को ले प्रकिया चल रही है। मकतपुर में जर्जर हो चुके शेड का जीर्णोद्धार भी कराना है।

शहर में 800 वेंडर : शहर में 800 वेंडर चिह्नित किए गए हैं, जो शहर की विभिन्न सड़कों के किनारे दुकान या ठेला लगाते हैं। इसके कारण सड़कों पर जाम लगता है और राहगीरों को आवागमन करने में परेशानी होती है। हमेशा दुर्घटना की भी संभावना बनी रहती है। वेंडर जोन बनने के बाद सभी फुटपाथी दुकानों उसी में शिफ्ट किया जाएगा।

अतिक्रमण हटाने को दुरुस्त की जा रही व्यवस्था : नगर आयुक्त एके राय ने कहा कि सड़कों पर से अतिक्रमण हटाने के लिए व्यवस्था दुरुस्त की जा रही है। इसी के तहत वेंडिग जोन का निर्माण भी कराया जाना है, ताकि फुटपाथ दुकानदारों को दुकान व ठेला आदि लगाने में राहत मिले। वेंडिग जोन का निर्माण पूर्ण होने के बाद किसी को भी सड़कों के किनारे दुकान, ठेला आदि लगाने नहीं दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस