संवाद सूत्र, (गढ़वा) : जिला मुख्यालय स्थित उत्सव गार्डेन के सभागार भवन में रविवार को मूलनिवासी कर्मचारी कल्याण महासंघ के तत्वावधान में प्रबोधन शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में देश भर के कर्मचारियों से जुड़े प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की गई। इस दौरान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मूलनिवासी कर्मचारी कल्याण महासंघ के केंद्रीय अध्यक्ष सुरेश सिंह धमानी ने कहा कि देश में ओबीसी की प्रतिशत आबादी रहने के बाद भी संख्या के अनुपात में सरकारी नौकरियों में आज तक उनकी भागीदारी सुनिश्चित नहीं हो पाई है। देश में मूलनिवासी समाज छ: हजार टुकड़े में बटे हुए हैं उसे एक सूत्र में बांधने की जरूरत है तभी मूलनिवासी समुदाय को उनका हक मिल सकेगा। उन्होंने कहा कि ओबीसी समुदाय को कोई भी नौकरी में प्रमोशन में रिजर्वेशन नहीं मिल रहा है। सरकार इसे संविधान में दिए गए अधिकारों को लागू करे। उन्होंने कहा कि मूल निवासियों के हित में कोई भी सरकारी कार्य धरातल पर नहीं दिख रहा है। अगर सरकार द्वारा मूल निवासियों के हित में योजनाओं को धरातल पर उतारा जाता तो उनका आर्थिक व सामाजिक विकास के साथ-साथ उन्हें मूलभूत सुविधा मुहैया हो पाता। भारतीय संविधान में मिले समानता के अधिकार का आज लगातार हनन हो रहा है इसके संरक्षण के लिए एक कानून बनना चाहिए। सभी समस्याओं का जनक राजनीति है । इसके लिए सभी लोगों को गोलबंद होकर सत्ता पर काबिज होने की जरूरत है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मनु राम ने कहा कि कर्मचारियों के साथ कई समस्याएं उत्पन्न हो रही है उसे कैसे निपटना है इस पर विचार करने की जरूरत है। इस मौके पर यतींद्र कुमार, हैतुला अंसारी, नागेंद्र ठाकुर, फिरोज अंसारी, मनोज कुमार, रामप्रवेश राम, अनिल वर्मा, विनोद राम, सुशील कुमार, जितेंद्र कुमार, प्राण यादव, सुरेंद्र कुमार, संतोष पाल,याकूब अंसारी, मुखलाल राम, अजय कुमार ठाकुर, सुनील प्रसाद गुप्ता, कमलेश राम, विनोद राम, संतोष कुमार, अमित कुमार, पंकज कुमार, निहानचल राम आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran