संवाद सूत्र, केतार (गढवा): थाना अंतर्गत बक्सीपुर-ताली पुल के समीप बुधवार की सुबह  सिर कटे बछड़े को शव होने की सूचना पर इलाके में सनसनी फैल गई। धीरे-धीरे यह सूचना जंगल में आग की तरह ताली समेत इसके आस-पास के इलाके में फैल गई। अज्ञात लोगों ने बछड़ा की हत्या कर उसका सिर वहां से गायब कर दिया था। जानकारी के अनुसार ताली ग्राम निवासी वीरेंद्र साह प्रतिदिन की भांति मंगलवार की शाम अपने दर्जनों गायों के साथ बछड़े को घर से आधा किलोमीटर दूर स्थित नदी किनारे बांध कर घर लौट गए। बुधवार की सुबह जब वे  गाय को दुहने के लिए वहां पहुंचे तो पाया कि जिस जगह पर गाय का बछड़ा बंधा था उससे कुछ दूरी पर उसका क्षत-विक्षत हालत में शव बालू में ढंका हुआ है। विरेन्द्र साह ने जब इसकी जानकारी ग्रामीणों को दी तो आस-पास के सैकड़ों ग्रामीणों के साथ-साथ विहिप एवं बजरंग दल के गौतम पाल, नितिश तिवारी, राकेश वैद्य, प्रदीप वर्मा, बबलू सिंह, जिप सदस्य ज्वाला प्रसाद, मूंगा साह, मुखिया प्रतिनिधि ब्रह्मदेव प्रसाद, जय सिंह, उपमुखिया मणिलाल गुप्ता आदि उक्त स्थल पर पहुंचे। वहां मौजूद विहिप कार्यकर्ताओं ने गो-हत्या पर रोष व्यक्त करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर जमकर बवाल काटा। बताय गया कि बेलाबार गांव के मुमताज अंसारी तथा याकूब अंसारी  उक्त बछड़े को मंगलवार को खरीदने के उद्देश्य से  विरेंद्र साह के पास मोल-भाव करने पहुंचे थे। लेकिन दाम को लेकर बात नहीं बनने पर सौदा पक्क नहीं हो सका। इसके बाद बुधवार को बछड़ा का क्षत-विक्षत शव बरामद हुआ। मौके पर मौजूद लोगों को जानकारी मिली की उक्त दोनों बुधवार को ताली गांव में स्थित मुखिया के घर पहुंच हुए हैं। इसके बाद ग्रामीण मुखिया के घर के बाहर से दोनों को अपने कब्जे में लेकर उनकी जमकर धुनाई की। इसकी सूचना मिलने के बाद श्रीबंशीधर नगर के डीएसपी अजित कुमार तथा पुलिस इंस्पेक्टर रामजी महतो दलबल के साथ घटनास्थल पर पहुंच कर दोनो आरोपियों को ग्रामीणों के कब्जे से मुक्त करा उसे हिरासत में लेकर केतार थाना भेज दिया। इसके बाद डीएसपी द्वारा दोषी के विरुद्ध कार्रवाई का आश्वासन देकर मामला को शांत कराने का प्रयास किया गया। लेकिन ग्रामीण ऑन स्पॉट कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े रहे। इसके बाद दोनों समुदायों के प्रबुद्ध लोगों की बैठक केतार थाना में एसडीओ कमलेश्वर नारायण की उपस्थिति में हुई। यहां भी दोषी के विरुद्ध कार्रवाई की मांग पर एक पक्ष के लोग अड़े रहे। एसडीओ द्वारा इस मामले का त्वरित अनुसंधान कर दोषी को हरहाल में सजा दिलाने के आश्वासन के बाद ग्रामीण देर शाम 5 बजे माने। इसके बाद पुलिस ने ग्रामीणों की पिटाई से घायल मुमताज अंसारी तथा याकूब अंसारी को पुलिस अभिरक्षा में इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भवनाथपुर भेजा। इस मामले में विरेंद्र साह के आवेदन पर पुलिस अज्ञात के विरुद्ध मामला दर्ज कर इसका अनुसंधान में जुट गई है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021