रमना : रांची से चोपन तक चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेन जल्द लोहरदगा से टोरी के रास्ते चल सकती है। फिलहाल यह ट्रेन मुरी-बरकाकाना के रास्ते चलती है। रांची-चोपन एक्सप्रेस को लोहरदगा-टोरी के रास्ते चलाने और इसे सप्ताह में तीन दिन के बदले प्रतिदिन चलाने की मांग को लेकर रांची दौरे पर आए रेल राज्य मंत्री सुरेश आंगड़ी, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव, पूर्व मध्य रेलवे हाजीपुर जोन के जीएम व दक्षिण पूर्व रेलवे के जीएम को ज्ञापन सौंपा गया है। रमना प्रखंड के सिलीदाग निवासी वरिष्ठ पत्रकार सुनील सिंह ने रेलमंत्री व रेल अधिकारियों को ज्ञापन देकर ट्रेन को अविलंब लोहरदगा-टोरी के रास्ते चलाने की मांग की है। सिंह की ओर से सौंपे गए ज्ञापन और मांग पर रेल राज्य मंत्री और रेल अधिकारियों ने आश्वासन दिया है कि इस मामले में गंभीरता से विचार करते हुए जल्द ही रांची-चोपन एक्सप्रेस को इस रास्ते से चलाया जाएगा। रेल राज्य मंत्री ने लोहरदगा के रास्ते नई ट्रेन चलाने के भी संकेत दिए हैं। कहा, कि सभी पहलुओं पर विचार कर जल्द निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने रेल अधिकारियों को इस पर विचार कर कार्रवाई का निर्देश दिया। इधर, पूर्व मध्य रेलवे के जीएम श्री त्रिवेदी ने कहा कि वह हाजीपुर लौट पर इस मामले पर कार्रवाई करेंगे। ज्ञापन में सिंह ने कहा कि रांची-लोहरदगा-टोरी नई रेल लाइन बने हुए करीब तीन वर्ष हो गए। इस मार्ग पर पैसेंजर ट्रेन चल रही है। लेकिन अब तक एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन शुरू नहीं हो सका है। रांची-चोपन एक्सप्रेस जो हफ्ते में तीन दिन चलती है इस ट्रेन को आसानी से लोहरदगा-टोरी के रास्ते चलाया जा सकता है। इससे करीब 150 किमी की दूरी कम हो जाएगी। साथ ही चार-से पांच घंटे समय की बचत होगी। इससे रेल यात्रियों को सुविधा तो होगी ही साथ ही रेलवे की आय भी बढ़ेगी। इस रेल मार्ग का निर्माण रेलवे ने इसलिए किया है कि रांची से नई दिल्ली की ओर जाने वाली ट्रेनों को इस मार्ग से चलाया जाए। सिंह ने ज्ञापन में रांची-चोपन को प्रतिदिन करने के साथ-साथ रांची से सुबह 7 बजे और चोपन से सुबह 6 बजे खोलने का सुझाव दिया है। उन्होंने भविष्य में नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस, गरीब रथ एक्सप्रेस व झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस को इस मार्ग से चलाने की मांग की है। रेल मंत्री व अधिकारियों से मिले आश्वासन के बाद लंबे समय के इंतजार के बाद रांची-चोपन एक्सप्रेस के टोरी के रास्ते चलने की उम्मीद बढ़ गई है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran